पाक साफ कहे जाने वाले मनमोहन सिहं भी आ रहे हैं जांच के दायरे में, लगा बेहद गंभीर आरोप….


नई दिल्ली : 2010 के कॉमनवेल्थ गेंम में हुए भ्रष्टाचार के मामले में मनमोहन सिंह हर तरफ से घिरे हुए दिखाई दे रहें है। दरअसल, पब्लिक अकाउंट्स कमिटी ने 2010 के कॉमनवेल्‍थ खेलों की रिपोर्ट को स्‍वीकार कर लिया है और सीबीआई को इससे जुड़े छ: मामले खोलने को आदेश दिया है।
इस आलोचना में खासतौर पर मनमोहन सरकार का नाम लिया गया है। जिसमें राष्ट्रमंडल खेलों के अध्यक्ष के रुप में सुरेश कलमाड़ी की नियुक्ति की थी और इसके दौरान हुए भ्रष्टाचार को नज़रअंदाज किया गया। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि राष्‍ट्रीय महत्‍व से जुड़े प्रोजेक्‍ट में प्रधानमंत्री कार्यालय को जिम्‍मेदारी बदलने के बजाय प्रभावी फॉलो अप पर ध्यान देना चाहिए ।प्रधानमंत्री कार्यालय का यह कहना है कि खेल मंत्रालय ने इसके कारण सही तरीके से बता दिया है कि वह टालमटोल वाला है। कैबिनेट सचिव जिम्‍मेदारी तय करने में नाकाम रहे और वह राजनीतिक दबाव में झुक गए। इस रिपोर्ट को लेकर सभी पार्टियों ने सहमति जताई है।
इस घोटालों में समिति का कहना है कि पीएमओ को ज़िम्मेदारियां बदलने की जगह कोई ठोस कदम उठाना चाहिए और साथ ही खेल मंत्रालय द्वार कारणों को समझाया जा सकता है और सााथ ही कैबिनेट सचिवालय राजनीतिक झुकाव की वजह से जवाबदेही सुनिश्चित करने में नाकामयाब रहें और कमेटी ने सीबीआई से कहा कि कथित भ्रष्टाचार की जांच फिर से शुरु करे जिसे एजेंसियों द्वार पहले बंद करा दिया था। इस घोटाले में लगभग 33 घोटाले दर्ज कराया गया है। जिसके कारण कलमाड़ी और उनके सहयोगियों पर भी केस दर्ज है। जिसमें उन्हें जेल भी जाना पड़ सकता है।   
  
  

सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share