सत्ता ने उतारा दलित उम्मीदवार, फिर भी मायावती जी अभी भी निश्चय नहीं कर पाई कि साथ दें या विरोध करें

बसपा सुप्रीमो मायावती ने 17 जुलाई को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव को लेकर बड़ा बयान दिया है। मायावती ने कहा कि दलित होने के नाते राम कोविंद के प्रति हमारी पार्टी का स्टैंड नकारात्मक नहीं हो सकता है अर्थात सकारात्मक ही रहेगा बसर्तें विपक्ष की तरह से अगर कोई इनसे अच्छा उम्मीदवार नहीं उतरता है।

मायावती ने कहा कि अगर इनके नाम की घोषणा करने से पहले बीजेपी अपने विपक्षी दलों को गुडफेथ में ले लेती तो और अच्छा होता। हालांकि इनसे पहले दलित वर्ग से श्री के आर नारायणन भी इस पद पर आसीन हो चुके हैं। साथ ही मायावती ने कहा कि अगर बीजेपी इस पद के लिए दलित वर्ग से किसी गैर राजनीतिक व्यक्ति का चयन करती तो वह ज्यादा बेहतर होता। 

Share This Post