Breaking News:

कार्यकर्ताओं से बात करते हुए साध्वी प्रज्ञा की आँखों से निकले आंसू.. बताई वो आपबीती जिसे सुन आप भी रो पड़ेंगे


भोपाल संसदीय सीट से कांग्रेस के दिग्विजय सिंह के खिलाफ बीजेपी प्रत्याशी घोषित होने के बाद फायरब्रांड हिंदूवादी नेता साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने आज भोपाल में बीजेपी कार्यकर्ताओं से मुलाक़ात की तथा उनको संबोधित किया. हुजूर विधानसभा में कार्यकर्ताओं को संबोधन के दौरान प्रज्ञा उस समय भावुक हो गईं जिस समय वह अपने जेल की यातनाओं को पार्टी कार्यकर्ताओं को बता रही थीं. उन्होंने जेल में यातनाओं को याद करते हुए बताया कि, उन्हें 24 दिन तक लगातार जेल में पीटा गया. पीटने के दौरान उन्हें गाली दी जाती थी.

सोचा भी नहीं होगा आप ने कि ऐसे भी होता है अत्याचार. उसे जानकर रो देंगे आप जो हुआ था साध्वी प्रज्ञा के साथ.. खुद बताया साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने

साध्वी प्रज्ञा ने बताया कि उन्हें बेल्ट से पीटते थे जिससे उनका शरीर सुन्न पड़ जाता था. गुनाह कबूल करवाने के लिए हमें उल्टा लटका दिया जाता था. निर्वस्त्र करने की धमकी दी जाती थी. प्रज्ञा ने आगे बताया कि, उन्हें इतना पीटा गया कि करवट लेने भी दिक्कत होती थी. शरीर पर जो घाव के निशान पड़े थे उस पर नमक छिड़का जाता था. पुलिस मुझे मारने की तरह-तरह की साजिश करती थी. पुलिस तब तक पट्टे से पीटती थी जब तक शरीर से खून न निकलने लगे. इसके बाद इसी घाव पर नमक छिड़क दिया जाता था. मुझे नहीं पता था कि आखिर मेरी गलती क्या है, क्यों मुझे पीटा जा रहा है लेकिन मुझे लगातार अंतहीन प्रताड़ना दी जाती रही.

एक नेता जिसने मुसलामानों को कुछ यूं भड़काया कि उन्हें डर दिखाया सुअर का… बहाना बनाया BJP को

दिग्विजय सिंह पर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि देशभक्तों के खिलाफ षडयंत्र करने वाला कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह था. साध्वी प्रज्ञा ने कहा, ”देशविरोधी ताकतों ने इकट्ठे होकर मुझे लक्ष्य बनाकर षडयंत्र किया. मैं एवीबीपी की सदस्य थी तब वो सीएम थे मैं उनको ठोकती थी उन्होंने मुझसे बदला लिया. हम देशभक्तों के खिलाफ षडयंत्र करने वाला कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह था. मेरा नाम स्वामी पूर्णचेतना है. मैं चेतना जगाने आयी हूं.”

नितिन गडकरी जी का एक और संकल्प.. उस स्थान को अमेरिका का कैलिफोर्निया जैसा बनाने का, जहां आजादी के बाद से पानी को तरस रही जनता

साध्वी प्रज्ञा ने कहा कि मैं भोपाल जेल में भी रही हूं. मुझे तेरह दिन हिरासत में रखा. बुरी तरह मारा, बेल्ट से मारा. दिन रात पीटते थे, गंदी गालियां देते थे निर्वस्त्र करने की धमकी देते थे जमीन पर लिटाकर मारते थे. मुझसे कहलवाना चाहते थे कि मैंने मुसलमानों को मारा. सन्यासी जीवन को गालियां दी गयीं. चौबीस दिनों तक कुछ नहीं खाया बस पिटती रही. ये लोग मुझे पीटते रहे और मैं पिटती रही. दिग्विजय सिंह पर दूसरे की पत्नी छीनने का आरोप लगा हुए साध्वी प्रज्ञा ने कहा, ”विधर्मी किसी की स्त्री को छीनकर शादी कर लेते हैं. बाद में उसके पति से तलाक दिलवाना दुष्चरित्र होता है.

बॉलीवुड से आई आवाज.. “देशद्रोही ही नहीं आतंकी भी है कन्हैया जिसके मंसूबे हैं देश के खिलाफ”

साध्वी प्रज्ञा ने कहा कि मुझे कैंसर हुआ, रीढ की हड्डी तोड दी. ये और किसी के साथ ना हो भोपाल में ये आयातित लोग भगवा से बलात्कार कर रहे हैं. राष्ट्र संकट में हैं. सैनिकों की ये कांग्रेसी बुराई करते हैं. साध्वी प्रज्ञा ने कहा कि मुझे इस बात का दर्द नहीं है कि मुझे प्रताड़ित किया गया बल्कि मुझे इस बात को लेकर आक्रोश है कि मेरे बहाने, मुझे आतंकी बताकर मेरे धर्म को कलंकित करने का प्रयास किया गया, पूज्य भगवा को अपमानित करने का प्रयास किया गया.

धन्यवाद के पात्र हैं वो 100 लोग जिन्होंने बेटे की मौत का शोक मनाते परिवार का कुछ यूं दिया साथ… हर कोई बोला- “महान हो आप”

दिग्विजय सिंह को हराने की अपील करते हुए साध्वी ने कहा, ”अपना भोपाल सुरक्षित चाहते हैं तो ऐसे लोगों को हटा दीजिये, भगा दीजिये, भोपाल को अखंड बनाकर रखना है तो संकल्प लीजिये. हम चुनाव नहीं लड रहे. हम संन्यासी है, हम राजनीति नहीं करते. लेकिन बात धर्मरक्षा की आती है तो सन्यासियों को मैदान में आना पड़ता है. मुझे राजनीति में आने को मजबूर किया गया, मैं तो धर्मयुद्ध के कारण आयी हूं, विधर्मी ताकतों को हराने के लिए आई हूँ, नेतागिरी करनी नहीं आयी, ठाकुर जीके आदेश पर आयी हूं. उन्होंने कहा कि यहाँ का प्रत्येक व्यक्ति साध्वी प्रज्ञा है. मुझे आप सबसे कुछ नहीं चाहिए बस एक वोट की भिक्षा दीजिये. मैं भगवा के सम्मान के लिए, धर्म के लिए आपसे एक वोट की भिक्षा मांग रही हूँ, मुझे अपने वोट की भिक्षा दीजिये.

18 अप्रैल: बलिदान दिवस अमर हुतात्मा तात्या टोपे जी जिनके आगे घुटने टेके थे अंग्रेजो ने लेकिन पाप किया इतिहासकारों ने उनका नाम छिपा कर

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने व हमें मज़बूत करने के लिए आर्थिक सहयोग करें।

Paytm – 9540115511


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share