छात्रों ने शुरू किया नो पबजी अभियान और जानिए यह किस तरह कर रही है काम..

रायपुर के एक निजी स्कूल की छात्राओं ने ‘नो पबजी गेम’ क्लब बनाया है. इस क्लब में वे छात्राएं शामिल हैं, जो पहले पबजी गेम खेला करती  थीं या कभी न कभी उसकी आदी रही हैं. क्लास 6वीं से लेकर 12वीं तक के ये बच्चे रोजाना हैंड बैंड लगाकर स्कूल आ रहे हैं, जिसमें नो पबजी गेम लिखा हुआ है.

इस्लामिक मुल्क ने खोज निकाला समुंदर के अंदर हजारों वर्ष पुराना मंदिर.. जबकि सेक्यूलर देश में साबित करना पड़ रहा कि अयोध्या में जन्मे थे श्रीराम

इस बैंड को पहने के बाद घरवालों के साथ आस-पड़ोस और दोस्त-रिश्तेदार भी उनसे पूछ रहे हैं कि आखिर वह ऐसा क्यों कर रहे है तब बच्चे उन्हें इस अभियान के बारे में बताने के साथ इस गेम से हो रहे नुकसान की भी जानकारी दी हैं.

जिस ट्रक ने रौंदा है उन्नाव की रेप पीड़िता को वो ट्रक निकला समाजवादी पार्टी के नेता का.. सोनभद्र नरसंहार के बाद अब उन्नाव मामले में भी समाजवादी कनेक्शन

महीनेभर से चल रही इस पहल से प्रॉफिट भी नजर आ रहा हैं। इन बच्चों ने 40 बच्चों को पबजी गेम खेलने की लत को छुड़वा चुके है. अब ये बच्चियां इस रक्षाबंधन में अपने हाथ से नो पबजी गेम लिखे स्लोगन वाली राखी बनाकर उन्हें अपने भाईयों को भी बांधेंगी और उपहार में भी इस खेल को न खेलने की कसम लेंगी।

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share