मेट्रो उद्घाटन में नहीं बुलाया गया केजरीवाल को तो मांगने लगे अपने हिस्से का पैसा…. फिक्र अपनी या जनता की ?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्ली मेट्रो की मैजेंटा लाइन का उद्घाटन करने वाले हैं, वहीं इस मौके पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहेंगे। लेकिन ताजुब की बात यह है कि इस उद्घाटन समारोह में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को नहीं बुलाया गया है।

जी हां उद्घाटन समारोह में शिरकत करने वाले VIP लोगों की सूची में सीएम केजरीवाल का नाम शामिल नहीं है। आपको बता दें कि मेट्रो की नई लाइन खुलने से दक्षिण दिल्ली और नोएडा के बीच दूरी तय करने में बहुत कम समय लगेगा।

इसमें दो घंटे तक की कमी आ सकती है। इसके साथ ही बोटेनिकल गार्डन दिल्ली के बाहर पहला इंटरचेंज मेट्रो स्टेशन बन जाएगा, जहां से दूसरे मेट्रो रूट के लिए ट्रेन बदली जा सकेगी।
आपको बता दें कि मैजेंटा लाइन पर चलने वाली ड्राइवर-लेस मेट्रो ट्रेन का ट्रायल रन दुर्घटना के कारण सुर्खियों में रहा। ट्रेन कालिंदी कुंज मेट्रो डिपो की दीवार तोड़ कर बाहर निकली गई थी। हालांकि, दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन ने किसी भी तरह की तकनीकी खामी की बात से इंकार किया था।

इसे मानवीय भूल बताई गई थी।
 इस उद्घाटन कार्यक्रम की सबसे बड़ी बात मेट्रो के उद्घाटन कार्यक्रम में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को न बुलाए जाने पर आम आदमी पार्टी ने नाराज़गी ज़ाहिर की है। ‘आप’ नेताओं ने पीएम नरेंद्र मोदी के सामने दिल्ली सरकार का 50 प्रतिशत हिस्सा लौटने की मांग भी रख दी है।
उधर दिल्ली में आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने एक कदम आगे बढ़ते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने अजीब मांग रख दी है।

सौरभ का कहना है कि ‘फेज़ 3 में 46 हजार करोड़ खर्च हुए हैं और उसमें से केंद्र सरकार ने महज़ 460 करोड़ खर्च किए हैं। प्रधानमंत्री मोदी को तमाम हिस्सेदारों का 40 हजार करोड़ रुपए लौटा दें और ख़ुद उदघाटन करें। पीएम मोदी को फेज 1 और फेज 2 का खर्च भी लौटा दें ताकि पुराने तमाम स्टेशन का उदघाटन भी केंद्र सरकार खुद कर सके’।

Share This Post

Leave a Reply