फतवाबाज पादरी को मोदी का सटीक जवाब…

भारत की संस्कर्ति और देशभक्ति प्रचीन है। वही भारत के लोगो में भारत के प्रति सच्ची देश भक्ति है और भारत में विभिन्न धर्मो के लोग रहते है जो भारत को एकता प्रदान करते है। देश भक्ति का परिचय मोदी सरकार भी दे रही है और मोदी सरकार ने अंतराष्टीय देशो में फसे भारतीयों को भारत में वापस लाये चाहे वह किसी वर्ग का हो। मोदी सरकार ने किसी के साथ भेदभाव नहीं किया बल्कि सभी को भारतीय समझा।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गांधीनगर के आर्कबिशप की ओर से जारी पत्र को फतवा करार देते हुए कहा कि यह राष्ट्रभक्ति ही है। इनके राष्ट्रभक्ति ने ही हमे प्रेरित किया कि हमने दुनिया के हिस्सों में फ़से भारतीयों की मदद की। पीएम मोदी ने यह बात रविवार को अहमदाबाद में गुरुकुल विश्वविद्याल प्रतिष्ठान में अस्पताल का उद्घाटन करने के बाद लोगों को संबोधित करते हुए कहीं। पीएम मोदी ने कहा कि “राष्ट्रभक्ति ने ही इसाइयों सहित विभिन्न धर्मों के लोगो की मदद करने के लिए प्रेरित किया। “

गौरतलब हैं कि मोदी कहते है कि “मै इस बात से हतप्रभ हूं कि एक धार्मिक व्यक्ति ने यह कहते हुए फतवा जारी किया था कि राष्ट्रवादी ताकतों को खत्म करें. यह राष्ट्रभक्ति ही है जिसने हमें दुनिया के किसी भी हिस्से में हर भारतीय की मदद करने के लिए प्रेरित किया। “उन्होंने बताया कि कुछ लोग अगर ऐसे मूल्यों का विरोध करते हैं तो यह चिंताजनक है।” आर्कबिशप ने यह भी कहा था कि अल्पसंख्यकों में असुरक्षा की बढ़ती भावना की वजह से देश का लोकतांत्रिक ताना-बाना दांव पर है।

मोदी ने कहा कि “भारतीयों के साथ-साथ हमने यमन से करीब 40 देशों के लोगों को बचाया क्योंकि ये लोग वहां चल रही लड़ाई की वजह से फंस गए थे. हमने न उनकी भाषा देखी न उनका धर्म देखा. यह हमारा राष्ट्रवाद और मानवीय मूल्य थे जिन्होंने हमें दिशा दिखाई. उन्होंने कहा कि वह राष्ट्रवाद का मुद्दा इसलिए उठा रहे हैं क्योंकि कुछ लोगों ने इसे चुनौती दी है। ”

बता दें कि मोदी सरकार ने हाली ही में ने यमन में 18 माह तक संदिग्ध आईएसआईएस के कब्जे से केरल के पादरी टॉम उझन्नालिल को मुक्त कराने के लिए सभी संसाधनों का इस्तेमाल किया। मोदी सरकार ने एक अन्य इसाई जूडिथ डिसूजा पश्चिम बंगाल के हैं जिनका अफगानिस्तान में अपहरण किया गया. हमने उन्हें वापस लाने की हरसंभव कोशिश की और उन्हें सकुशल वापस ले आए, वह भी आतंकवादियों के कब्जे से. हम हमारी राष्ट्रभक्ति की वजह से ही ये सभी मानवीय कार्य कर पाए।

Share This Post

Leave a Reply