Breaking News:

मध्यप्रदेश की जीत के साथ कांग्रेस ने भगवा के खिलाफ जाहिर किये इरादे.. साध्वी प्रज्ञा के खिलाफ ये बड़ी कार्यवाही संभव

मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बने हुए मात्र 6 महीने से ही हुए हैं और कांग्रेस की सरकार ने अपने वही सनातन विरोधी, भगवा विरोधी इरादे जाहिर कर दिए हैं, जिनकी साजिश वह पहले से ही रचती रही है. मध्यप्रदेश की कांग्रेस सरकार के निशाने पर एक बार पुनः वह पूज्य भगवा आ गया है, जिस भगवा को कभी कांग्रेस ने आतंक से जोड़ने का प्रयास किया था. भगवा को आतंकी सिंबल बताने के लिए एक साजिश के तहत समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट, मालेगांव बम ब्लास्ट जैसे मामलों में साध्वी प्रज्ञा, असीमानंद जैसे भगवाधारियों को फंसाकर जेल में डाला गया था जो अब जेल से बाहर आ चुके हैं.

लेकिन अब कांग्रेस की सरकार ने एक बार फिर से भगवा को निशाने पर लेने की कोशिश शुरू कर दी है. सूत्रों से मिल रही जानकारी के मुताबिक़, मध्यप्रदेश सरकार भोपाल लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी की प्रत्याशी तथा फायरब्रांड हिंदूवादी नेता साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को जेल भेजने की साजिश रच रही है. साध्वी प्रज्ञा को जेल भेजने के लिए मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस की सरकार उस केस की फाइल को फिर से खुलवाने की तैयारी कर रही है, जिसमे साध्वी प्रज्ञा को ह्त्या का आरोपी बनाया गया था.

यह केस 2007 में पूर्व संघ प्रचारक सुनील जोशी की ह्त्या का है. सूत्रों की मानें तो सुनील जोशी की ह्त्या के केस को खुलवाने की पुष्टि एक अधिकारी ने की है. बता दें कि मध्य प्रदेश के देवास में 29 दिसंबर 2007 को सुनील की ह्त्या कर दी गई थी. इस केस में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को ह्त्या का आरोपी बनाया गया था. जोशी हत्याकांड की जांच पहले राज्य पुलिस ने की थी तथा बाद में इसे नेशनल इन्वेस्टीगेशन एजेंसी(NIA) को सौंप दिया गया था. लंबी सुनवाई के बाद साध्वी प्रज्ञा को इस मामले में अदालत ने बरी कर दिया था.

लेकिन अब मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार इस केस की फाइल को फिर से खोलने की तैयारी में है. राज्य के क़ानून मंत्री पीसी शर्मा ने कहा है कि कानून विभाग ट्रायल कोर्ट के आदेश पर विचार करेगा तथा जांच दोबारा से शुरू करने पर फैसला लेगा. ज्ञात हो साध्वी प्रज्ञा ठाकुर भोपाल लोकसभा सीट कांग्रेस पार्टी के कद्दावर नेता दिग्विजय सिंह के खिलाफ चुनावी मैदान में हैं.. वो दिग्विजय सिंह जिन्होंने हिन्दू आतंकवाद तथा भगवा आतंकवाद की थ्योरी गढ़ी थी.

चूँकि साध्वी प्रज्ञा स्वयं इस बात को कह चुकी हैं उनको एक साजिश के तहत दिग्विजय सिंह के इशारे पर फंसाया गया तथा जेल में दिग्विजय सिंह के इशारों पर उनको अंतहीन प्रताड़ना दी गई थी. और अब जब राज्य में कांग्रेस की सरकार बन चुकी है तथा उनको उस केस में जेल भेजने की तैयारी की जा रही है, जिसमें उनको बाइज्जत बरी किया चुका है, तो इसके पीछे दिग्विजय सिंह की साजिश ही नजर आती है. ऐसा इसलिए क्योंकि मध्यप्रदेश सरकार में दिग्विजय सिंह की पूरी पकड है तथा कई बार तो उनको बिना पद का मुख्यमंत्री करार दिया चुका है. ऐसे में साध्वी प्रज्ञा को फिर से जेल भेजने के पीछे वही मंशा नजर आ रही है, जिस मंशा के तहत उन्हें आतंकी बताकर जेल में ठूंस दिया गया था..अर्थात फिर से कांग्रेस सरकार के निशाने पर हिन्दुओं का परम पूज्य भगवा ही है.

Share This Post