श्रीराम के जैसी सजी थी अयोध्या, अब श्रीकृष्ण के काल जैसे संवरेगा मथुरा… बरसाना की होली में शामिल होंगे योगी आदित्यनाथ

अयोध्या में भगवान राम की सांकेतिक अगवानी करने के बाद अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भगवान कृष्ण की नगरी मथुरा में बड़े आयोजन में शिरकत करेंगे। विश्व प्रसिद्ध बरसाना की लठमार होली को इस बार और भव्य रूप देने के लिए एक मीटिंग की गई । मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मथुरा के बरसाना में 24 फरवरी को होली खेलेंगे। उनके साथ मथुरा की सांसद हेमामालिनी भी लटठ्मार होली में शिरकत करेंगे।

योगी आदित्यनाथ चांदी की पिचकारी से रंग डालेंगे। इस दौरान मेला भी आयोजित किया जाएगा।

 धर्मार्थ मंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण और प्रमुख सचिव पर्यटन अवनीश अवस्थी समेत मथुरा जिला प्रशासन ने कल कार्यक्रम को अंतिम रूप दिया। इस बैठक में सांसद हेमा मालिनी भी मौजूद थीं। सीएम योगी ने दीपावली अयोध्या में मनाई थी और होली खेलने के लिए वह बरसाना आ रहे हैं।
 मंत्री चौधरी लक्ष्मी नारायण ने बताया कि लठामार रंगीली होली धूमधाम से मनाने के लिए एक महीने पहले ही तैयारियां शुरु हो जाएंगी।

संस्कृति मंत्री लक्ष्मीनारायण चौधरी मथुरा के छाता से विधायक हैं।
उन्होंने कहा कि पांच हजार साल पहले राधा-कृष्ण जी ने जैसी होली खेली थी, वैसी होली योगी जी खेलेंगे। उन्होंने कहा कि एक होली राधा-कृष्ण ने खेली थी अब उनके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और सांसद हेमा मालिनी की खेली हुई होली होगी।
 इसमें हेमा मालिनी जी भी साथ रहेंगी। यह होली अपने आप में अनूठी होगी। सांसद हेमा मालिनी ने कहा बरसाना की होली में आज भी द्वापरकालीन होली की अनुभूति होती है।

सीएम योगी आदित्यनाथ 24 फरवरी को यहां छह घंटे रहकर चांदी की पिचकारी से होली खेलेंगे।
 पर्यटन प्रमुख सचिव अवनीश अवस्थी ने बताया कि सीएम योगी के साथ पूरे केबिनेट के अलावा आसपास के राज्यों के भी मंत्रिमंडल के सदस्य भी होली देखने आएंगे। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आगमन पर श्रीजी मंदिर में भव्य फूल बंगला होगा। जयपुर मंदिर से राधारानी मंदिर तक फूलों की सजावट कराई जाएगी।

लठामार रंगीली होली खेलने को राधा-कृष्ण के स्वरूप हेलीकॉप्टर से नीचे उतारे जाएंगे। उनके स्वरूपों की आरती कर योगी होली का शुभारंभ करेंगे। राधा बिहारी इंटर कॉलेज में एक जनसभा होगी। 23 फरवरी को लड्डू होली खेली जाएगी। इस दिन सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। गोवर्धन ड्रेन में नाव चलाई जाएंगी और रंगोली बनाई जाएंगी। 

Share This Post

Leave a Reply