बेहद आधुनिक थीं दिल्ली की फैशन डिजायनर माला लखानी. हिन्दू – मुस्लिम आदि बातों से बहुत दूर.. “अनवर” उनका बेहद विश्वसनीय नौकर था, लेकिन एक दिन मिली २ लाशें


आख़िरकार भारत की राजधानी दिल्ली के वसंत कुंज क्षेत्र में हुई नामी फैशन डिजायनर माया लखानी की न्रिसंश हत्या का खुलासा दिल्ली पुलिस ने कर ही दिया है . माया लखानी की लाश के साथ उनके एक नौकर बहादुर की भी लाश मिली थी जिसके सभी आरोपितों तक दिल्ली पुलिस के हाथ आखिकार पहुच ही गये हैं . ये पूरा मामला एक अयोग्य पर विश्वास करने के चलते हुआ .. माया लखानी एक राष्ट्रीय स्तर की फैशन डिजायनर थीं जो किसी भी प्रकार की धर्म मत या मजहब आदि की बातों से बहुत दूर रहती थी और ऐसी बातों को करने वालों को समाज का दुश्मन मान कर सब इंसान हैं के सिद्धांत पर चलती थी .. आखिरकार जब उनकी निर्मम हत्या हुई तो सभी जानना चाहते थे कि ये कत्ल किस ने किये हैं .. पुलिस ने भी तत्परता दिखाते हुए इस मामले का खुलासा कर ही दिया .

विदित हो कि भारत की राजधानी नई दिल्ली के पश्चिम जिले के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि गुरुवार तड़के वसंत कुंज पुलिस स्टेशन को वसंतकुंज एन्क्लेव स्थित एक घर में दो लोगों की हत्या के बारे में जानकारी मिली थी . जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुची और जांच शुरू कर दी . शुरुआती जांच में मृतका की पहचान फैशन डिजाइनर माला लखानी (53) तथा उनके नौकर बहादुर (50) के रूप में हुई थी . इनकी हत्या ठीक तालिबानी अंदाज़ में की गयी थी जिसमे शरीर पर चाकुओं के वार उसी अंदाज़ में थे जैसे वर्तमान समय मे दुर्दांत आतंकी वीडियो बना कर करते हैं .

दिल्ली की सतर्क पुलिस ने जब जांच आगे बढाई तो इस पूरे मामले में तीन लोगों को हिरासत में लिया गया. पुलिस ने हत्या में इस्तेमाल किया गया चाक़ू तालाब के पास से बरामद कर लिया है, जिसको उन्होंने पिछले हफ्ते ही वीकली बाजार से खरीदा था. दरअसल, माला के पेट पर पांच चाकू के निशान मिले हैं जबकि एक चाकू उसकी गर्दन पर मारा गया जिससे उसकी मौत हुई. जबकि नौकर की भी उसी वर्क स्टेशन में ही हत्या कर दी गई.

माला मूलतः आगरा की रहने वाली थीं. पिछले कुछ साल से वह साउथ दिल्ली के पॉश इलाके वसंत कुंज में रहती थीं. उनका ग्रीन पार्क इलाके में बुटिक था. इसी बुटिक में हत्या का आरोपी अनवर भी काम करता था. माला लखानी किसी भी प्रकार के मत मजहब में विश्वास न कर के सबको समान नजर से देखती थी इसके चलते ही वो जल्द ही अनवर उनका बेहद विश्वशनीय बन बैठा था . माला के पड़ोसियों ने बताया कि तड़के 4 बजे उन्हें माला के घर से चीखने-चिल्लाने की आवाज आई. तब उन्होंने पुलिस को सूचना दी. जब पुलिस मौके पर पहुंची तो आरोपी हत्या को अंजाम दे चुके थे.

जॉइंट पुलिस कमिश्नर अजय चौधरी ने बताया कि अनवर ने साथ में काम करने वाले रहमत और वसीम के साथ इस वारदात की साजिश रची थी। इन्होंने घटना को अंजाम देने के लिए 10 दिन तक रेकी की थी। बुधवार रात वे कपड़ों का डिजाइन दिखाने के बहाने माला के घर पहुंचे थे। तीनों आरोपी माला के घर से कीमती सामान लूटकर उन्हीं की कार से फरार हो गए। पुलिस ने बताया कि दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...