शुभकामनाएं दीजिये लाल मस्जिद निवासिनी अफ़साना जी को जिन्होंने 7 जन्मो का साथी चुना है अभिषेक को

एक सच्चा प्यार वही होता है जिसमे किसी प्रकार का धोखा न हो , किसी ने अपने नाम आदि को बदल कर दिखावे के लिए किसी और धर्म या मजहब का वेश न बदला हो और इतना ही नहीं ,उसके बाद उसी के साथ 7 जन्मो के बंधन में बंधे रहने का सकल्प लेता हो .. उस प्यार को किया है अभिषेक ने जो इस समय बन गये हैं अपनी जीवन संगिनी अफसाना के पति .. अभिषेक का सच्चा प्यार एक जवाब है उन साजिशकर्ताओं को जो लव में भी जिहाद खोजते हैं .

ये दुल्हन अलीगढ की है जिसका घर लाल मस्जिद के पास में है ..  जाहरवीर बाबा मंदिर समिति की ओर से आयोजित सामूहिक विवाह में अफसाना ने अभिषेक के साथ सात फेरे लिए। दोनों ने अग्नि को साक्षी मानकर सात जन्मों का साथ निभाने का संकल्प लिया। इनके साथ-साथ तीन नवयुवक व युवती दाम्पत्य बंधन में बध गए। इस मौके पर दुल्हन के वेश में अफ़साना काफी खुश थीं और दूल्हे अभिषेक ने भी उनका हाथ थाम कर जन्मजन्मांतर तक साथ निभाने की कसम खाई ..

फिलहाल अलीगढ और दिल्ली में ही नही बल्कि पूरे देश मे ये विवाह शुभकामनाओं व चर्चा का विषय बना हुआ है ..समिति के अध्यक्ष रोहितास गुप्ता ने बताया कि खैर रोड निवासी अफसाना का विवाह दिल्ली निवासी अभिषेक के साथ तय हुआ था। दोनों के परिवार इसके लिए राजी थे, उनमें किसी तरह का कोई विवाद नहीं था। इसलिए परंपरा के अनुसार दोनों का विवाह संपन्न कराया गया। सचिव प्रमोद ने बताया कि दो और जोड़े परिणय सूत्र में बंधे। अफसाना और अभिषेक का कहना है कि धर्म के नाम पर राजनीति करना गलत है, क्योंकि सभी को भगवान ने बनाया है और खून भी सभी एक है। अफसाना और अभिषेक दोनों एक दूसरे के साथ हिंदू रिवाज से शादी कर काफी खुश नजर आए।

Share This Post