पूरी सेना भी उतार दी जाए तो भी अयोध्या में अब नहीं बन सकती मस्जिद.. ये बयान एक मुस्लिम नेता का है

अयोध्या में श्रीराम मंदिर ही बनना चाहिये क्योंकि अयोध्या में श्रीराम मंदिर का बनना देश की सामजिक एकता तथा उन्नति के लिए हितकारी साबित होगा. अगर अयोध्या में मिलिट्री भी उतार दी जाए तो भी वहां मस्जिद नहीं बन सकती है इसलिए अब वो समय आ गया है जब मंदिर-मस्जिद विवाद को ख़त्म किया जाए तथा अयोध्या में श्रीराम मंदिर का निर्माण किया जाए. अयोध्या श्रीराम मंदिर विवाद मामले पर दिया गया ये बयान किसी हिन्दू का नहीं हैं बल्कि एक बड़े मुस्लिम नेता का है.

आपको बता दें कि भारतीय जनता पार्टी के एमएलसी बुक्कल नवाब ने कहा कि मिलिट्री लगाकर भी अयोध्या में मस्जिद का निर्माण नहीं किया जा सकता. गौरतलब है कि बुक्कल नबाब इससे पहले समाजवादी पार्टी में थे जो योगी सरकार आने के बाद भाजपा में शामिल हो गये थे. बुक्कल नवाब ने भाजपा में शामिल होने के बाद लखनऊ के एक मंदिर में घंटा भी चढ़ाया था जिसके बाद इस्लामिक मौलानाओं ने भाजपा नेता बुक्कल नवाब के खिलाफ फतवा जारी किया था तथा उन्हें इस्लाम से खारिज कर दिया था.

संगठन राष्ट्रीय शिया समाज(आरएसएस) से जारी बयान में बुक्कल नवाब ने कहा कि जो लोग दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, लखनऊ में बैठकर मस्जिद बनाए जाने की बात कह रहे हैं. क्या वह अयोध्या में पांच वक्त की नमाज पढ़ने दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई, लखनऊ से रोजाना अयोध्या जाएंगे. बुक्कल नवाब ने कहा कि यह लोग गरीब भोले भाले मुसलमानों को गुमराह करने का काम कर रहे हैं, जबकि हर मुसलमान यह बात अच्छी तरह से जानता है कि उसको नमाज अपने अपने मोहल्ले गांव व एरिया के मस्जिद में ही पढ़ना है और तमाम मस्जिद हैं. जो आज भी खाली पड़ी है. उन्होंने कहा  कि अयोध्या में विवाद ख़त्म कर श्रीराम मंदिर निर्माण होना ही चाहिए.

Share This Post