अगर बंद नहीं हुए मदरसे तो 15 साल में ISIS से जुड़ जायेंगे आधे से ज्यादा हिन्दुस्तानी मुसलमान.. कद्दावर मुस्लिम नेता के बयान से मची खलबली

शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन तथा कद्दावर मुस्लिम नेता वसीम रिजवी ने मदरसों को लेकर बड़ा बयान देते हुए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी से मदरसों पर रोक लगाने की मांग की है. वसीम रिजवी ने प्रधानमन्त्री जी को एक पत्र लिखकर कहा है जितनी जल्दी हो सके, उतनी जल्दी मदरसों पर रोक लगाई जाए. अगर ऐसा नहीं किया गया तो अगले 15 सालों में देश के आधे से ज्यादा मुसलमान ISIS से जुड़ जायेंगे.

प्रधानमन्त्री को लिखे इस पत्र में वसीम रिजवी ने कहा है कि मदरसों में छात्रों में आंतकी संगठन आईएसआईएस की विचारधारा फैलाई जा रही है. वसीम रिजवी ने इस पत्र में लिखा है कि जल्द ही प्राथमिक मदरसे बंद न हुए तो पंद्रह साल बाद देश का आधे से ज्यादा मुसलमान आईएसआईएस विचारधारा का समर्थक हो जाएगा. उन्होंने पत्र में लिखा है, ‘पूरी दुनिया में यह देखा गया है कि कोई भी मिशन चलाने के लिए बच्चों को निशाना बनाया जाता है.इस समय दुनिया में आईएसआईएस एक खतरनाक आंतकी संगठन है जो धीरे-धीरे पूरी दुनिया में मुस्लिम आबादी वाले क्षेत्रों में अपनी पकड़ बना रहा है.

ने आगे लिखा, ‘कश्मीर में बहुत बड़े तादाद में आईएसआईएस के समर्थक खुले तौर पर दिखाई दे रहे हैं. बहुत बड़े पैमाने पर मदरसे में इस्लामिक तालीम लेने वाले बच्चों को आर्थिक मदद पहुंचा कर इस्लामिक शिक्षा के नाम पर उनको दूसरे धर्मों से काटा जा रहा है. देश के ग्रामीण क्षेत्रों में चल रहे प्राथमिक मदरसे चंदे के लालच में हमारे बच्चों का भविष्य खराब करने पर आमादा हैं. उन्हें सामान्य शिक्षा से दूर रख कर उनमें इस्लाम के नाम पर कट्टरपंथी सोच पैदा की जा रही है. यह देश के लिए एक बड़ा खतरा है.’ रिजवी ने आगे लिखा है, ‘परिस्थितियों को देखते हुए देश हित और मुस्लिम बच्चों के अच्छे भविष्य के लिए देश के सभी प्राथमिक मदरसों को बंद कर दिया जाए. हाई स्कूल पास करने के बाद अगर बच्चा स्वयं धर्म प्रचार की तरफ जाना चाहता है तो वह मदरसे में दाखिला ले सकता है.

Share This Post