तीन तलाक पर सज़ा से बचने के लिए आखिरकार खोज ही लिया कुछ शौहरों ने एक रास्ता… जानिए कौन सा रास्ता


भारत सरकार मुस्लिम महिलाओं को उनका हक़ दिलाने के लिए लगातार काम कर रही है। आज 21 वी सदी में जी रहा भारत कहीं ना कहीं मुस्लिम महिलाओं को उनका हक़ नहीं दिला पा रहा है। यही कारण था कि भारत सरकार ने तीन तलाक के खिलाफ कानून बनाया था।

इस कानून से मुस्लिम मर्दो में खौफ नहीं नजर आ रहा हैं जबकि ऐसे मुस्लिम मुल्ला डरे हैं जिनकी रोजी-रोटी ही सिर्फ तलाक जैसे कामों की वजह से चल रही है।

सच्चा मुसलमान तो यही बयान दे रहा है जब आप किसी की जिम्मेदारी उठा नहीं सकते हैं। तो उसके साथ शादी करने का भी कोई अधिकार नहीं हैं।

आपको बता दे कि असल में इस्लाम में तीन शादियाँ तब लिखी हुई हैं जब आप किसी मजबूर और असहारा महिला का सहारा बनते हैं। लेकिन आज तो तीन तलाक और तीन शादियाँ रिवाज सा बन गया है। मर्द तीन बार औरत को तलाक बोल देता है और आसानी से महिला से मुक्ति पा लेता हैं।
 

अगर मुस्लिम मर्द और मुस्लिम औरतों में बराबरी देखी जाए तो महिला को भी तीन बार तलाक बोलकर मर्द से छुटकारा पाने का अधिकार मिल जाना चाहिए। मुस्लिम महिलायें बेशक सामने आकर यह बात नहीं बोल रही हैं लेकिन सच यही है कि वह खुश हैं कि तीन तलाक पर कानून बना है।
अब आपको बीते दिनों का ही एक मामला बताते हैं तो उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर में हुआ है, उत्तर प्रदेश में रहने वाली एक महिला जिसका नाम रूबी बताया जा रहा है वह अपने मासूम से बच्चे से साथ दर-दर के ठोकरे खा रही है। इस महिला का कहना है कि उसका पति सऊदी अरब में है और वहीँ से उसने मोबाइल पर इसको तीन बार तलाक बोलकर तलाक दे दिया है।

उसने लिखा है कि रूबी तलाक, तलाक तलाक। अब इस मामले में मोदी सरकार लगातार कानून बनाने की कोशिश में लगी हुई है। लेकिन विपक्ष के सख्त रवैये के चलते कानून अभी पूरी तरह से बना नहीं है। वही 4 साल के मासूम बच्चे के साथ महिला आज बेघर हो गयी है।
महिला का आरोप है कि उसका पति उससे दहेज़ में पैसे और गाड़ी मांग रहा था। एक बार रूबी ने बच्चे की फीस देने के लिए पति से पैसे मांगे तो उसने तलाक दे दिया है।

 

अब आप ही बताइए खास मजहबी लोगों द्वारा मुस्लिम महिलाओं को दिया जाने वाले तीन तलाक पर कानून बनना चाहिए अथवा नहीं बनना चाहिए । खास मजहबी लोग तीन तलाक पर कानून बनने के बावजूद भी अपनी बातों पर अडिग नजर आ रहे हैं। इन लोगों के दिल में अपने बीबी बच्चों के लिए जरा भी दया नजर नहीं आ रही हैं।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share