दाढ़ी काटने की अफवाह उड़ा कर मोहम्मद फारुक ने सोचने पर मजबूर कर दिया कि कौन उड़ा रहा बच्चा चोरी जैसी अफवाह

पिछले कुछ महीनों में देशभर से ऐसी तमाम घटनाएँ अचानक से सामने आईं कि जयश्रीराम न बोलने पर हिन्दूओं ने मुस्लिमों की पिटाई की, उनकी दाढ़ी काट दी, टोपी उतार दी. हालाँकि ऐसी ज्यादातर घटनाएँ पुलिस जांच में झूठी साबित हुई हैं. एक बार फिर बेनकाब हुए हैं वो तमाम चेहरे जो मनगढ़ंत कहानियों के आधार पर न सिर्फ हिन्दू संगठनों बल्कि हिन्दू समाज को बदनाम करने के बहाने तलाशते रहते हैं.

NRC विशेष – बदनाम होते रहे बोडो और खून बहाता रहा MULTA.. असम में बंगलादेशी आतंकियों का वो दल में जो लड़ रहा है भारत को इस्लामिक मुल्क बनाने के लिए

जिस तरह मोहम्मद फारुक ने अफवाह उड़ाई कि हिन्दुओं ने मुस्लिम होने के कारण उसकी दाढ़ी काटी तथा फिर खुद ही कबूल किया कि उसने गर्मी के कारण दाढ़ी कटवाई थी व घरवालों से डर के कारण झूठ बोला था, उसने तमाम तरह के सवाल खड़े कर दिए हैं. सबसे बड़ा सवाल तो यही है कि कहीं बच्चा चोरी की घटनाओं की भी तो इसी तरह से अफवाह नहीं उड़ाई जा रही ताकि इससे हिंसा हो, लोगों की जानें जाएँ ?

बंगाल को आतंक का अड्डा बना देना चाहता था एजाज.. गिरफ्तारी से पर्दाफाश हुआ नकली सेक्यूलरिज्म का जिसे कहते हैं तुष्टीकरण

मामला उत्तर प्रदेश के बागपत का है जहाँ के मुगलपुरा मोहल्ला निवासी युवक मोहम्मद फारूक पुत्र मुन्ना छाता बनाने का काम करता है. वह गुरुवार सुबह अपने दोस्त के पास दिल्ली गया था. उसके मुताबिक, खजूरी पुस्ते के पास पहुंचकर एक हेयर सैलून पर उसने अपनी दाढ़ी कटवा ली. रात करीब दस बजे वह बागपत में अपने घर पहुंचा. समाज व परिवार के डर से उसने अपने घरवालों को बताया कि ट्रेन में शरारती तत्‍वों ने उसके साथ मारपीट की और उसकी दाढ़ी भी काट दी. घरवालों ने उसकी बात पर विश्‍वास कर लिया.

बचपन से जिस पिता ने अपनी बेटी को धर्मनिरपेक्षता की शिक्षा दी थी अब बड़ी हो कर उसी बेटी ने अपने पिता को कोर्ट में दी ये शिक्षा

कोई शक न करे, इसलिए अपने कपड़े भी फाड़ लिए. यह मामला आग की तरह पूरे क्षेत्र में फैल गया. घटना की पुलिस को सूचना दी गई तो एसपी प्रताप गोपेन्द्र यादव ने युवक से पूछताछ कर जांच-पड़ताल की, जिसमें युवक द्वारा की गई हरकतों का पता चल गया. बाद में मोहम्मद फारूक ने कोतवाली में हाथ जोड़कर और कान पकड़कर अपनी गलती के लिए माफी मांगी. एसपी का कहना है कि युवक के साथ कोई घटना नहीं हुई है. उसने गलत जानकारी दी थी.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–

Share This Post