अपनी आजादी के दुश्मनों को पहचान चुकीं मुस्लिम महिलाएं.. संसद के बाहर जोरदार प्रर्दशन, निशाने पर रही कांग्रेस


शीतकालीन सत्र के आखिरी दिन भी तीन तलाक विरोधी बिल राज्यसभा से पास नहीं हो पाया। दरअसल कांग्रेस और विपक्षी दलों के सख्त रवैए के चलते राज्यसभा में ये बिल पास नहीं हो सका है। वहीं, तीन तलाक विरोधी विधेयक पास न होने से मुस्लिम महिलाओं में काफी रोष देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए मुस्लिम महिलाओं ने संसद भवन के बाहर विरोध प्रदर्शन किया और कांग्रेस का बहिष्कार करने का फैसला किया।

मुस्लिम महिलाओं ने गुस्से का इजहार करते हुअ कहा, ”कांग्रेस ने यह बिल जानबूझ के पास नहीं होने दिया। प्रदर्शन करने वाली महिलाओं का कहना है कि कांग्रेस मुस्लिम महिला विरोधी है। यह उनकी साजिश है, लेकिन हम लोग न्याय लेकर रहेंगे। मुस्लिम महिलाओं ने कहा कि तीन तलाक के विरोध में कानून बनवाकर रहेंगे।”
वहीं, प्रदर्शनकारी फरहा फैज ने कहा कि तीन तलाक बिल लाने के लिए मुस्लिम महिलाएं पीएम नरेंद्र मोदी का धन्यवाद अदा करती हैं, जिन्होंने लोकसभा में इस विधेयक को पास कराया, लेकिन राज्यसभा में कांग्रेस के विरोध के चलते उच्च सदन से पास नहीं हो सका।

कांग्रेस कितना ही विरोध कर ले, लेकिन एक दिन जरुर कानून बनेगा।”
प्रदर्शन में शामिल दूसरी महिला शबनम ने कहा कि कांग्रेस की जो मांगे हैं वह गलत है। अगर कोई व्यक्ति जेल में जाएगा तीन तलाक देने वाला। उसकी संपत्ति है उसका हिस्सा भी तो उस पीड़ित महिला को मिल सकता है। इसलिए जो बातें कर रहे हैं उसमें कोई दम नहीं है।”


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...