हज सब्सिडी खत्म होना रास नहीं आ रहा तमाम मुस्लिम पैरोकारो को… शुरु किया विरोध

मोदी सरकार ने मुस्लिमों कि हज सब्सिडी खत्म करने का जैसे ही एतिहासिक फैसला लिया है . तभी से मुस्लमानों कि नीदं उडती हुई दिखाई दे रही है. और मुस्लिम पैरोकारो को हज सब्सिडी खत्म होना बिल्कुल भी रास नही आ रहा है. मजहबी लोग कई वर्षों से करोड़ो कि हज सब्सिडी मुफ्त में पा रहे है .जिन मजहबी लोगों को मुफ्त की हज सब्सिडी कि आदत पड़ चुकि है अब वो बिफरे बिफरे से नज़र आ रहे है .

हालाकि अगर देखा जाय तो हिन्दूओं के लिए कहीं ऐसी कोई सब्सिडी नही है . और हज सब्सिडी खत्म करने केन्द्र सरकार के इस फैसले पर कई मुस्लिम नेताओं के बोल बिगड़ते हुए दिखाई दे रहे है

जिसके बाद सपा जिलाध्यक्ष रामइकबाल यादव ने कहा कि केंद्र सरकार बदले की भावना से काम कर रही है। केंद्र हो या प्रदेश की भाजपा सरकार अल्पसंख्यकों के कल्याण की एक-एक कर सभी योजनाओं को बंद कर रही है।

हज यात्रा सब्सिडी बंद करना एक साजिश है।
अबूबकरनगर के ही शफीकुरु हमान शफत ने कहा कि हज यात्रियों का सब्सिडी मिलनी चाहिए। यह वर्षों पुरानी परंपरा है। इसे सरकार ने एक झटके में बंद कर मुस्लिमों के दिल तोड़ने वाला काम किया है।
और ऐसे कई नेता है जिनकी रातों कि नीदं उडी हुई है और वे अब बेतुके बयान देकर सभी मुस्लमानों को गुमराह करने करने का प्रयास करते दिखाई रहे है ,

Share This Post