Breaking News:

गांधी जयंती पर सोशल मीडिया पर गूंजता रहा “नाथूराम गोडसे” का नाम

कल गांधी जयंती थी जिसको भारत सरकार के तमाम मंत्रियों और लगभग सभी जनप्रतिनिधियों के साथ साथ बड़े बड़े ब्यूरोक्रेस्ट और अफसरों ने मनाया .. इसको वैसे तो प्रधानमन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने सफाई के लिए चर्चा में ला दिया है लेकिन कल जो कुछ भी दिखा वो सफाई आदि से किसी भी रूप में वास्ता नहीं रखता था बल्कि उस इतिहास से जुड़ा हुआ था जब गांधी को गोली मारी गयी थी और गोली मारने वाले का नाम था नाथूराम गोडसे . गांधी जयंती पर सोशल मीडिया में पूरी तरह से नाथूराम गोडसे छाये दिखे और हर तरफ देश बचा गये नाथूराम जैसे नारे भी दिखे .

ये समर्थन मात्र २ या 4 लोगों की प्रोफाइल पर नहीं था बल्कि एक बाकायदा श्रृंखला थी नाथूराम की तस्वीरें शेयर करने वालों की . कईयों ने तो नाथूराम गोडसे की फोटो को अपनी प्रोफाइल फोटो तक बना डाली है और कुछ ने तो उस से भी आगे बढ़ कर अपने नाम में गोडसे उपनाम खुद से ही जोड़ लिया है जो सोशल मीडिया पर साफ़ साफ़ देखा जा सकता है . गाँधी के बजाय नाथूराम गोडसे को समर्थन करता सबसे बड़ा वर्ग किशोरों और युवाओं का था जिसमे हिन्दू संगठन के लोगों के साथ ही साथ कालेज के छात्र भी देखे गये जो भारत के करवट ले रहे समय का प्रतीक भी माना जा सकता है .

उदाहरण के लिए उदय ठाकुर ने कुछ तस्वीरें शेयर करते हुए लिखा है कि –

1947 बंटवारे के कुछ दुर्लभ तस्वीरें, नाथूराम ने यही सब कारणों से गांधी जी को मारा था . वो आगे लिखते हैं कि भारतीय इतिहास का सबसे बड़ा नरसंहार क्यो हुआ. जितने आज़ादी में नही मरे उतने बंटवारे में मरे लोग.

हिन्दू बड़ेलाल यादव लिखते हैं कि – महात्मा नाथूराम गोडसे अमर रहें . इतना ही नहीं इन्होने बाकायदा गोडसे की फोटो पर माल्यार्पण करते हुए अपनी तस्वीर भी डाली है .

अरविन्द कश्यप लिखते हैं कि – रघुपति राघव राजाराम , देश बचा गये नाथूराम ..  ऐसे तमाम और भी प्रोफाइल हैं जो नाथूराम गोडसे को श्रद्धांजलि देते हुए दिखे हैं .

Share This Post