#OprationAllOut जानिए कौन हैं वो 6 दुर्दांत आतंकी जो सबसे पहले शिकार होंगे जांबाज भारतीय सेना के??

जम्मू कश्मीर मेंमहबूबा सरकार गिरने के बाद राज्यपाल शासन लग चुका है. राज्यपाल शासन लगने के बाद ही ये आसार नजर आने लगे हैं कि कश्मीर में अब भारतीय सेना आतंकियों के खिलाफ रौद्र रूप अपनाएगी, तथा आतंकियों का इलाज सेना कि बंदूकें से निकली गोली से होगा. सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत तथा राज्य पुलि डीजीपी एसपी वैद्य पहले ही कह चुके हैं कि सेना का लक्ष्य आतंकियों का खात्मा है तथा आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन में तेजी देखने को मिलेगी. इसी बीच जानकारी मिल रही है सेना ने टॉप ६ आतंकी कमांडरों की सूची बनाई हैं जो सबसे पहले सेना के निशाने पर होंगे तथा इन आतंकियों को मार गिराया जायेगा. सेना का मन्ना है कि इन 6 अातंकियों का खात्मा ही घाटी में शांती फैलाने का एक मुख्य रास्ता है. सेना की इस कार्रवाई से अातंक की जड़ कमजोर होगी और ये सुरक्षा बलों की बड़ी कामयाबी होगी. ये ६ आतंकी इस प्रकार हैं–

रियाज नाइकूः हिजबुल मुजाहिदीन का कमांडर रियाज नाइकू घाटी का बेहद खौफनाक अातंकी है. 29 साल का रियाज नाइको सोशल मीडिया के इस्तेमाल में माहिर है और टेक सेवी है. उस पर 12 लाख रुपये का इनाम है. वह खतरनाक आतंकियों की सूची में शामिल है, सुरक्षाबलों ने उसे A++ कैटगरी में रखा हुआ है.रियाज पुलवामा का रहने वाला है.

जाकिर राशिद भटः जाकिर राशिद भट या जाकिर मूसा अंसार का नया कमांडर है. इस खतरनाक अातंकी को भी सुरक्षाबलों ने उसे A++ कैटगरी में रखा हुआ है. अांतकी मूसा जम्मू कश्मीर के नूरपुरा का रहने वाला है.

जीनत उल इस्लामः इन दोनों के बाद जीनत.उल.इस्लाम का नाम आता है जो बीते साल अबु इस्माइल के मारे जाने के बाद से लश्कर की कमान संभाल रहा है. जीनत उल इस्माल शोपियां के सुजान जानीपुरा का रहने वाला है. 28 साल के जीनत को फरवरी में शोपियां में हुए हमले में प्रमुख आरोपी माना जा रहा है। इस हमले में तीन 3 जवान मारे गए थे. आई.टी एक्सपर्ट माना जाने वाला जीनत-उल-इस्लाम पहले अल-बदर आतंकी संगठन में काम करता था. साल 2008 में वह एक बार गिरफ्तार हुआ था जिसमें उसने कबूल किया था कि वो ओवर ग्राउंड वर्कर रहा है। साल 2012 में उसे रिहा कर दिया गया.

नवीद जट्टः नवीद जट्ट का लश्कर-ए-तोयबा के इस आतंकी को श्अबु हंजलाश् के नाम से भी जाना जाता है.  ये कई आतंकी हमलों को अंजाम दे चुका है तथा अब सेना कि रडार पर है.

सैफुल्लाः सैफुल्ला या अबू मुसैब को भी सेना ने A++ कैटगरी में रखा हुआ है। अबू मुसैब हिजबुल का कमांडर है.

अल्ताफ काचरूः वहीं सेना की लिस्ट में अाखिरी नाम अल्ताफ काचरू का है. सुरक्षा बलों ने इस A++ कैटगरी में रखा हुआ है. यह कुलगाम में हिजबुल का कमांडर है.

Share This Post