Breaking News:

गद्दार निकला भारत के शिक्षण संस्थान से MBA करने वाला इशफाक.. बन्दूक उठाकर आतंकी बना और एलान किया हिंदुस्तान के खिलाफ जंग का..


एक बार फिर से धोखा किया गया है उस राष्ट्र के खिलाफ जिसने उन्हें दी है हर सुविधा . भारत की हवा में सांस ली , भारत का अन्न खाया और भारत के ही संविधान से हर वो सुविधा ली जो इसको मिली थी. ऐसा भी है कि वह अशिक्षित था बल्कि उसने भारत के ही शिक्षण संस्थान से MBA की डिग्री हासिल की. लेकिन इस सबके बाद भी उसने “इंशाल्लाह फतह करेंगे हिंदुस्तान” बोलकर बंदूक उठा ली भारत के ही खिलाफ और एलान कर दिया हिन्दुस्तान के खिलाफ जंग का. ये जवाब उनको भी है जो कहते हैं कि आतंक का कोई धर्म नहीं होता तथा गरीबी, बेरोजगारी के कारण आतंकी बनते है.

आपको बता दें कि हिन्दुस्तान से गद्दारी करके नये बने आतंकी का नाम है इशफाक अहमद वानी. खबर के मुताबिक़, पुलवामा में इश्फाक अहमद वानी नामक एमबीए होल्डर एक गद्दार ने आतंक का दामन थाम लिया है. रिपोर्ट्स के अनुसार, इश्फाक अहमद वानी एमबीए का छात्र रह चुका है और करीब एक हफ्ते से वह घर से लापता है. परिवारवालों ने इस मामले में पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई है. बताया गया है कि इशफाक अहमद इस्लामिक आतंकी दल हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल हो गया है. MBA पासआउट इश्फाक ने बंदूक उठाकर हिंदुस्तान को लहूलुहान करने की शपथ लेकर उन लोगों को आईना दिखाया है जो गरीबी या अशिक्षा को आतंक का कारण बताते हैं. MBA पासआउट इशफाक चाहता तो किसी अच्छी कंपनी में नौकरी कर सकता था, हिन्दुस्तान को आगे बढने में अपना योगदान दे सकता था लेकिन उसने ऐसा नहीं किया बल्कि उसने हिंदुस्तान को तबाह करने का संकल्प लिया.

ज्ञात हो कि पिछले महीने घाटी में रहने वाले असम में तैनात एक आईपीएस अधिकारी का छोटा भाई आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन में शामिल हो गया था. आईपीएस अधिकारी के भाई की फोटो कश्मीर में वायरल हुई थी जिसमें वह एके-47 लिये खड़ा था. कश्मीर के शोपिया जिलांतर्गत हैदरपोवा निवासी मोहम्मद रफीक का 25 वर्षीय पुत्र समसुल हक मेंगनूई श्रीनगर के समीपवर्ती जाकुरा स्थित सरकारी मेडिकल कालेज में यूनानी चिकित्सा के स्नातक की पढ़ाई कर रहा था. बीते 22 मई से वह अचानक गायब हो गया था. इसके बाद कश्मीर पुलिस को पता चला था कि वह हिजबुल मुजाहिद्दीन में शामिल हो गया है. इससे पहले इसी साल जनवरी में 26 वर्षीय मनन बशीर वानी कथित तौर पर हिज्बुल मुजाहिद्दीन में शामिल हो गया था. वानी अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से पीएचडी कर रहा था, फिर उसने पीएचडी छोड़ हथियार उठाये तथा हिंदुस्तान में तबाही मचाने की शपथ ली.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...