जिस IPS इनामुल हक को कईयों ने माना था देशभक्ति का प्रतीक.. उसी के सगे भाई ने जो किया उसको जानकर रौंगटे खड़े हो जायेंगे आपके

कश्मीर के जिस आईपीएस अधिकारी इनामुल हक़ को सब राष्ट्रवाद का प्रतीक बताते थे, उस आईपीएस के सगे भाई ने जोम काम किया है उसे जानकर आप हैरत में पड़ जाएंगे. जिस आईपीएस इनामुल की राष्ट्रभक्ति की दाद दी जाती थी उस आईपीएस के भाई शम्स उल हक की हकीकत पता चली तो सबके रौंगटे खड़े हो गये. आपको बता दें कि आईपीएस इमामुल हक़ का भाई शम्स उल हक़ इस्लामिक आतंकी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल हो गया है तथा शपथ ली है हिन्दुस्तान को लहूलुहान करने की, हिन्दुस्तानी फौजियों के क़त्ल करने की.

लेकिन जम्मू कश्मीर पुलिस ने असम में तैनात एक कश्मीरी आईपीएस अधिकारी को बताया कि उनका लापता भाई एक आतंकवादी संगठन में शामिल हो गए है लेकिन आईपीएस अधिकारी ने इस रिपोर्ट को सिरे से खारिज कर दिया. इनाम उल हक मेंग्नू ने बताया कि उनका छोटा भाई शम्स उल हर मेंग्नू श्रीनगर में यूनानी मेडिसिन की पढ़ाई करता है और 22 मई से गायब है जिसकी रिपोर्ट दर्ज कराई गई है. लेकिन परिवार ने उसके किसी भी संगठन में शामिल होने की बात को खारिज कर दिया है. वहीं जम्मू कश्मीर पुलिस लापता शम्स उल हक मेंग्नू के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल होने की पुष्टि कर रहा है. पुलिस का कहना है कि ‘गुरुवार को लापता हुए शख्स को हिजबुल मुजाहिदीन के साथ देखा गया है.’

आतंकी बने शम्स उल हक़ के परिवार का कहना है कि कुछ दिन तक इंतजार करने के बाद भी जब शम्स नहीं लौटा तो इसकी रिपोर्ट पुलिस में दर्ज कराई. तहकीकात पूरी होने पर ही वो इस मामलें में कोई बयान देंगे. वहीं एसपी शैलेंद्र कुमार मिश्रा ने शम्स की बंदूक के साथ सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीर के आधार पर कहा है कि ‘पूरी संभावना है कि शम्स आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन में शामिल हो गया, उसे कई बार कथित संगठन के साथ देखा गया है.’  इनाम उल-हक मेंग्नू को बुधवार को गुवाहाटी में असम पुलिस के कमांडो बटालियन के कमांडेंट के तौर पर स्थानांतरित कर दिया गया था.

Share This Post