उमर अब्दुल्ला के मुंह से ऐसा बयान सुनकर हर कोई हैरान है… यहां तक कि भारतीय सेना भी


जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री तथा नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने एक ऐसा बयान दिया है जिसे सुनकर हर कोई हैरान रह गया है. उमर अब्दुल्ला का ये बयान भारतीय सेना को लेकर आया है तथा सेना भी उमर अब्दुल्ला के बयान से अचरज में है. उमर अब्दुल्ला ने कहा कि केंद्र सरकार की शांति पहल की समाप्ति के बाद अगर सुरक्षा बल पहले से ज्यादा आक्रामक तरीके से आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई करते हैं, तो इसके लिए केवल आतंकवादी ही जिम्मेदार होंगे, जो माहौल को लगातार बिगाड़ने की कोशिश कर रहे हैं.

गौरतलब है कि 16 मई को केंद्र सरकार ने रमजान के दौरान सुरक्षा बलों को आतंक – विरोधी अभियानों पर विराम लगने का निर्देश दिया था , लेकिन उनसे कहा गया था कि हमला होने की सूरत में वे जवाबी कार्रवाई कर सकते हैं. अब्दुल्ला ने कहा कि , ” आतंकी संगठन इस भारत सरकार तथा सेना की इस शांति पहल को नाकाम करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं, ऐसे में जब संघर्ष विराम समाप्त हो जाएगा तब अगर सुरक्षा बल मजबूती से कार्रवाई करते हैं , तो उसके जिम्मेदार सिर्फ और सिर्फ आतंकवादी ही होंगे.”  उमर अब्दुल्ला ने कहा कि चूँकि अभी तो सीजफायर चल रहा है इसलिए सेना शांत है लेकिन जब सीजफायर समाप्त होगा उस समय क्या सेना चुप बैठेगी? बिलकुल नहीं बल्कि उस समय भारतीय सेना के जवान और ज्यादा आक्रामक तरीके से कार्यवाही करेंगे जो बिक्लुल जायज भी होगी क्योंकि आतंकियों की हरकतें ही ऐसी हैं.

आपको बता दें कि दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग और पुलवामा जिलों में हुए दो आतंकी हमलों पर उन्होंने यह प्रतिक्रिया दी, जिनमें दो पुलिसकर्मियों की जान चली गई और छह अन्य सुरक्षाकर्मी घायल हो गये. अब्दुल्ला ने कहा कि पुलवामा में जिन लोगों ने पुलिसकर्मियों की हत्या की है, उनकी जगह जहन्नुम की आग के अलावा कहीं नहीं होनी चाहिए. उमर अब्दुल्ला का सेना को लेकर ये बयान इसलिए आश्चर्यचकित है क्योंकि उमर अब्दुल्ला अक्सर सेना की आक्रामक कार्यवाही का विरोध करते रहे हैं.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share