पहली बार आतंकियों के खात्मे के लिए उतारे गए ब्लैक कैट कमांडो.. अब आजादी मिलेगी उनकी लाशों पर

जब भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव राममाधव ने घोषणा की कि उनकी पार्टी जम्मू-कश्मीर की महबूबा मुफ्ती सरकार से अपना समर्थन वापस ले रही है, तभी ये अंदाजा लगाया गया था कि अब भारत सरकार कश्मीर में कुछ विशेष करने वाली है. ऐसी आशंकाओं का कारण भी राममाधव का वो बयान था जिसमें उन्होंने कहा कि महबूबा मुफ्ती सरकार में हालत खरब होते जा रहे थे, इसलिए अब गठबंधन में साथ रहना असंभव हो गया था.

राज्यपाल शासन लगने के बाद अब केंद्रीय गृह मंत्रालय ने आतंकियों के खिलाफ बड़ी कार्यवाही कि मंजूरी दे दी है. सूत्रों के हवाले से खबर मिल रही है कि गृह मंत्रालय ने अधिकारीयों के मंत्रणा के बाद ये तय कर लिया है कि आतंकियों को नेस्तनाबूद करने के लिए जहाँ ऑपरेशन ऑलआउट में तेजी लाने को कहा गया हैं, वही इसके अलावा बड़ी खबर ये है कि कश्मीर में भारत सरकार ने  NSG कमांडों तैनात करने का निर्णय ले लिया है. कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ NSG कमांडो तैनात करना साफ़ साफ़ संकेत दे रहा है कि आने वाले समय में आतंकियों के खिलाफ भारतीय सेना का रौद्र रूप दिखाई देगा. बताया गया है जम्मू कश्मीर में बढ़ रही आतंकी घटनाओं के बीच वहां NSG की टीम तैनात की गई है.

केंद्रीय गृह मंत्रालय को उम्मीद है कि एनएसजी की तैनाती से वहां आतंकी घटनाओं पर लगाम लगेगा. साथ ही NSG को भी लाइव मुठभेड़ों से निपटने का अनुभव प्राप्त होगा. आपको बता दें कि पिछले ही महीने गृह मंत्रालय ने इनकी तैनाती को हरी झंडी दे दी थी. फिलहाल NSG बीएसएफ़ के साथ मिलकर उनके हुमहमा कैंप में ट्रेनिंग कर रही है. जम्मू में फिलहाल NSG की हिट हाउस इंटरवेंशन की टीम भेजी गई है. हाउस इंटरवेंशन टीम हॉस्टेज परिस्थिति से निपटने में बहुत कारगर साबित होती है. अभी तक ऐसी स्थिति से निपटने के लिए आर्मी और सीआरपीएफ अपना अभियान चलाती है लेकिन अब NSG कमांडो के तैनात होने से आतंकियों के खिलाफ सेन और मुखर हो सकेगी.

Share This Post