योगीराज मेरठ में PFI की दस्तक. वो PFI जिसके माथे पर हैं दक्षिण भारत के कई हिन्दुओं की हत्या के दाग

अयोध्या में बाबरी मस्जिद गिराए जाने की तारीख ६ दिसंबर से पहले बाबरी मस्जिद ‘फिर से तामीर करो’ की बातें लिखे पोस्टर पश्चिम उत्तर प्रदेश में मिलने से पुलिस और खुफिया विभाग सतर्क हो चुकी है। पुलिस इन पोस्टर की असलियत और यह कहां से आए हैं, इसका पता लगाने में जुट गई है।

६ दिसंबर को अयोध्या में बाबरी मस्जिद गिराए जाने की तारीख है। इस दिन हर साल कुछ मुस्लिम संगठन काला दिवस और कुछ हिंदू संगठन विजय या शौर्य दिवस के तौर पर मनाते हैं।

पूरे प्रदेश में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त रखे जाते है।

पुलिस को डर रहता है कि इस मुद्दे को लेकर संवेदनशील शहरों में दोनों समुदाय में टकराव की नौबत आ सकती है।

पुलिस ने पोस्टर कब्जे में ले लिया है। इस पोस्टर को एक संगठन पॉप्युलर फ्रंट ऑफ इंडिया की तरफ से छपा दर्शाया गया है। उस पर हिंदी और उर्दू में मजमून लिखा हुआ है। लाल और काले रंग के पोस्ट पर सफेद रंग से लिखा गया है।

इसमें लिखा गया है कि, कहीं हम भूल न जाए, धोखे के २५ साल। उसके नीचे तारीख लिखी है ६ दिसंबर १९९२ – ६ दिसंबर २०१७ बाबरी मस्जिद का पहले का फोटो पोस्टर पर छपा है। उसके नीचे लिखा है बाबरी मस्जिद की दोबारा तामीर करो। PFI वही संगठन है जो केरल और कर्नाटक में हिन्दुओ के कत्लेआम के लिए कुख्यात है और वर्तमान में तमाम मामलों में NIA के रडार पर है . योगिराज में इस प्रकार से पोस्टर आदि लगाना कहीं न कहीं से सीधे तौर पर प्रशासन को चुनौती देने के समान है जिसका जल्द से जल्द निराकरण होना अति आवश्यक है … 

Share This Post