वरुण गांधी को मारने की पूरी तैयारी कर चुका था राशिद.. लेकिन उससे पहले ही उस पर नजर गई किसी और की

इस्लामिक आतंकी दाऊद इब्राहिम का शार्प शूट राशिद मालबारी अबूधाबी में सुरक्षा एजेंसियों द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया है. राशिद मालबारी की गिरफ्तारी के बाद हुए खुलासे से भारत में सनसनी फैल गई है. खबर मिली है कि राशिद मालबारी ने छोटा शकील के इशारे पर बीजेपी नेता वरुण गांधी और श्रीराम सेना के संस्थापक प्रमोद मुथालिक को मारने का प्लान बनाया था लेकिन उसके प्लान को अंजाम देने से पहले ही उसकी गिरफ्तारी हो गई. राशिद को छोटा शकील का खास गुर्गा माना जाता है. राशिद 2014 में मंगलुरु कोर्ट से बेल जंप कर नेपाल के रास्ते देश से फरार हो गया था.

राशिद मालबारी के बारे में जानकारी मिली है कि नेपाल में अंडरवर्ल्ड का सारा काम राशिद ही देखा करता था. साल 2000 में बैंकाक में छोटा राजन पर हुए हमले में भी छोटा शकील का शूटर राशिद शामिल था. हमले में छोटा राजन का करीबी रोहित वर्मा मारा गया था, लेकिन छोटा राजन फरार हो गया था. बेल जंप करके भागे इस आतंकी राशिद के खिलफ रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी हो चुका था. राशिद डी कंपनी का सबसे खास गुर्गा माना जाता है. यही कारण है कि छोटा शकील ने भाजपा सांसद वरुण गांधी तथा श्रीराम सेना प्रमुख प्रमोद मुथालिक की हत्या की जिम्मेदारी राशिद मलबारी को दी थी. राशिद की गिरफ्तारी की बात छोटा शकील ने स्वीकारी है. सुरक्षा एजेंसियां राशिद की गिरफ्तारी के बाद उसको भारत लाने की कोशिश में जुटी हैं.

बता दें कि दाऊद इब्राहिम पर शिकंजा कसने के लिए पिछले कुछ वर्षों से लगातार उसके खास गुर्गों को अरेस्ट किया जा रहा है। इससे पहले उसके भाई सहित कुछ खास गुर्गे गिरफ्तार किए जा चुके हैं। दुबई से गिरफ्तार किए गए फारूक टकला का नाम इसमें प्रमुख है। टकला पाकिस्तानी सुरक्षा एजेंसी आईएसआई के इशारे पर अपराध को अंजाम दे रहा था। मुंबई धमाकों की सुनवाई के दौरान आरोप पत्र दाखिल होने के बाद फारूक टकला के भूमिका का पता चला था। टकला दुबई में दाऊद इब्राहिम के कारोबार की देख रेख भी करता था। 1993 के बम धमाकों के बाद से ही फारूक टकला फरार चल रहा था लेकिन पहले फारुख टकला गिरफ्तार किया गया और अब राशिद मलबारी की गिरफ्तारी हो चुकी है.

Share This Post

Leave a Reply