हबीबुर्रहमान उड़ा देना चाहता था उस ट्रेन को, जिसमें 8 दिन के बच्चे से लेकर 80 साल के वृद्ध तक सफ़र करते थे

मंगलवार को दक्षिण भारत के राज्य कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरू से NIA द्वारा पकड़े गये आतंकी हबीबुर्रहमान से पूंछताछ में बड़ा खुलासा किया है. हबीबुर्रहमान ने सुरक्षा एजेंसियों के सामने कबूल किया है कि ट्रेन में IED ब्लाट्स को अंजाम देना चाहता था. हबीबुर्रहमान के खुलासे के आधार पर NIA ने बेंगलुरु में रामनगर रेलवे ट्रैक से दो IED जब्त किए जिनका उपयोग वह ट्रेन में ब्लास्ट के लिए करना चाहता था. इसके बाद जब्त  IED को डिफ्यूज करने के लिए एनआईए ने बेंगलुरु पुलिस से बम निरोधक दस्ते की मदद मांगी तथा IED को डिफ्यूज किया गया.

बलात्कार के समान है हलाला, मोदी से निवेदन है कि बहु विवाह और हलाला को तत्काल क़ानून बना कर खत्म करें – स्वाति मालीवाल

हबीबुर्रहमान ने पूंछताछ में और भी तमाम बड़े खुलासे किये हैं. उसने बताया है कि उसने 2018 में बेंगलुरु सिटी में कई जगहों पर डकैती की घटना को अंजाम दिया था. इससे हासिल होने वाले फंड से वह आतंकी संगठन जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश (जेएमबी) की आर्थिक सहायता करता था. 2014 के खगरागढ़ ब्लास्ट मामले में प्रमुख अभियुक्तों में से एक हबीबुर रहमान शेख को एनआईए ने बेंगलुरु से मंगलवार को गिरफ्तार किया था. एनआईए ने उसके खिलाफ 10 लाख रुपये के नकद इनाम की घोषणा की थी.

वामपंथ और तृणमूल मिला रहे हैं हाथ.. भाजपा के खिलाफ एक और महागठबंधन

एनआईए के मुताबिक आतंकी हबीबुर रहमान जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्‍लादेश का आतंकी है. 2014 के खगरागढ़ ब्‍लास्‍ट केस में भी इसका भी हाथ था. एनआईए का कहना है कि वह जमात-उल-मुजाहिद्दीन की ओर से आयोजित ट्रेनिंग कैंप में भी शामिल हुआ था. गिरफ्तार करने के बाद आतंकी हबीबुर रहमान को बेंगलूरु की स्‍पेशल एनआईए कोर्ट में पेश किया. जहां से उसे पांच दिनों की ट्रांजिट रिमांड पर एनआईए को सौंप दिया गया.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post