अथाह दौलत बना ली थी आतंक की जहरीली फसल बोने वाले गिलानी ने ..पत्थर को बनाया पैसे का जरिया


जम्मू-कश्मीर में आतंकी फंडिंग के मांमले में कट्टरपंथी अलगाववादी नेता सैयद अली शाह गिलानी की मुश्किलें लगातार बढ़ रही है। पहले तो एनआईए को सैयद अली शाह गिलानी द्वारा साइन किया हुआ एक कैलेंडर मिला था, जिसमें आतंकी घटनाओं की पूरी जानकारी थी। वहीं, अब एनआईए ने दावा किया है कि गिलानी और उसके परिवार के पास अकूत संपत्ति है। एनआईए ने दावा किया है कि गिलानी के पास सोपोर के डोरो में दो मंजिला मकान, जो 9000 वर्गफुट में फैला है। श्रीनगर में 5000 वर्गफुट का घर और दफ्तर, जो उसकी पत्नी के नाम पर है।

साथ ही बुलबुलबाग श्रीनगर में दोमंजिला मकान, श्रीनगर में यूनीक पब्लिक स्कूल, दिल्ली में 2 कमरे का एक फ्लैट, बाग-ए-महताब में दो मंजिला मकान, बेमिना में तीन मंजिला कोठी, पट्टन में 100 से 150 कनाल जमीन, रहमत आबाद में दोमंजिला मकान और हैदरपोरा दफ्तर में 4 गाडिय़ां है। गिलानी के पास से हुई बरामदगी से पाकिस्तानी आतंकियों की मदद से कश्मीर में अशांति और हिंसा फैलाने में अलगाववादियों की भूमिका उजागर हुई है। बता दें कि टेरर फंडिंग के मामले में एनआईए ने अलगाववादियों के कई ठिकानों पर छापेमारी की थी।
उसी कार्यवाही में आगे बढ़ते हुए एनआईए ने गिलानी के करीबी के घर पर छापेमारी की थी, जिसमें एनआईए ने उसके घर से गिलानी का हस्ताक्षर किया हुआ एक कैलेंडर बरामद किया था। उस कैलेंडर में आतंकी गतिविधियों की पूरी जानकारी थी। किस तारीख को क्या करना है, कैसे करना है, कब हमला करना है, कब पत्थरबाजी, ये सारी जानकारी उस कैलेंडर में दी हुई थी। इस कैलेंडर के बाद से ही गिलानी की लगातार मुश्किलें बढ़ रही है और एनआईए अपना शिकंजा लगातार कस रहा है। अब एनआईए ने गिलानी की संपत्ति का ब्यौरा दिया है, जो गिलानी की गले की फांस बनने वाली है।

सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share