जिस सत्य के साथ पहले दिन से खड़ा रहा था सुदर्शन न्यूज़.. अब बरी हुए समझौता ब्लास्ट केस में फंसाए गये सभी हिन्दू

उस समय भी कईयों ने धर्मनिरपेक्षता के नाम पर और कईयों ने भाईचारे के नाम पर हमें कटघरे में खड़ा करने की कोशिस की गयी लेकिन हम अपने सिद्धांतो और सत्य के साथ अटलता से खड़े रहे और आख़िरकार हमने अपने अथक प्रयासों को तब तक जारी रखा जब तक कि सच सामने आ नही गया . ये वो लड़ाई थी जिसमे विपक्षी बहुत ज्यादा मजबूत था और सत्य के साथ सीमित संसाधन लेकिन अंततः जीत सत्य की हुई जो सदियों से होता आ रहा है.

हम बात कर रहे हैं समझौता ब्लास्ट केस की, जिसमें NIA की पंचकूला अदालत ने स्वामी असीमानंद सहित सभी चारौ हिन्दुओं को अदालत ने बाइज्जत बरी कर दिया है. अदालत के इसी फैसले के साथ ही विधर्मिई ताकतों का वो गुब्बारा भी फूट गया है, जिसके तहत हिन्दू आतंकवाद का हौव्वा खड़ा किया गया था तथा सनातन को बदनाम करने की कोशिश की गई थी. समझौता ब्लास्ट मामले में न सिर्फ असीमानंद जी अपितु उनके साथ फंसाए गये सभी लगातार चिल्लाते रहे कि वो निर्दोष हैं लेकिन उनकी एक नहीं सुनी गयी और हद से ज्यादा पुलिसिया प्रताड़ना दी गयी, लेकिन अंततः न्याय हुआ तथा असीमानंद सहित हिन्दू बाइज्जत बरी हो गये.

आपको बता दें कि समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट केस में पाकिस्तानी महिला राहिला वकील की याचिका पंचकूला की एनआईए कोर्ट ने खारिज करते हुए असीमानंद समेत चारों आरोपियों को बरी कर दिया है. पंचकूला स्थित एनआईए की विशेष अदालत में बुधवार को राहिला की याचिका पर सुनवाई हुई जिसे कोर्ट ने सीआरसीपीसी की धारा 311 के तहत खारिज कर दिया तथा असीमानंद सहित सभी हिन्दुओं को बरी कर दिया,

Share This Post