Breaking News:

पूर्वोत्तर चला शांत की ओर. मोदी की नीतियों से खुश होकर उल्फा नेता ने डाल दिए हथियार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक दिवसीय दौरे से कुछ घंटों पहले ही भारत में प्रवेश करने वाले उल्फा के परेश गृह के मशहूर सदस्य रण असम ने आत्मसमर्पण कर दिया है। यह पुलिस के लिए एक बड़ी कामयाबी मानी जा रही है।

बता दें कि जिस वक्त पीएम मोदी एक दिवसीय असम दौरे पर थे, उसके कुछ ही घंटों पहले अल्फाई रण असम उर्फ कृष्णा नाथ ने 27 अप्रैल को अल्फा के म्यांमार स्थित शिविर से निकलकर नागालैंड के रास्ते भारत में प्रवेश किया था, जिसके बाद वह 18 मई को असम पहुंचा। रण असम पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के प्रशिक्षण ले चुका है, ऐसा कहा जा रहा है कि रण असम गुवाहाटी में बड़ी तबाही मचाने की ताक में था।

जानकारी के मुताबिक, रण असम ने छह साल पहले 2011 में उल्फा की सदस्यता ली थी। उसे कई तरह का प्रशिक्षण दिया गया था, जिसके चलते उसे अल्फा का कट्टर सदस्य माना जाता था। पुलिस से पुछताछ के दौरान रण असम ने बताया कि बीमारी के चलते अपने संगठन से सहमति लेकर इलाज के लिए यहां आया था, लेकिन उसने आत्मसमर्पण कर दिया। दिसपुर पुलिस ने रण असम द्वारा आत्मसमर्पण करने के बाद उसे काहिलीपाड़ा स्थित विशेष शाखा के अधिकारियों के पास भेज दिया, ताकि समर्पण की प्रक्रिया को पूरा किया जा सके। 

Share This Post