कांग्रेस शासित राजस्थान में बजरंग दल कार्यकर्ता ऋषिराज को गोलियों से भून डाला इमरान ने. झालावाड में भीषण तनाव

अचानक ही थम गये है असहिष्णुता के तमाम शोर और उठनी बंद हो गई वो तमाम आवाज जो केवल और केवल एक ही पक्ष के खिलाफ उठा करती है . हर कोई ये देख और समझ भी रहा है कि किस प्रकार से एक पक्ष के दमन का पूरा खाका कुछ साजिशकर्ताओ ने तैयार किया है और उस पर बाकायदा अमल भी करना शुरू कर दिया गया है . राजस्थान ने मॉब लिंचिंग के खिलाफ कडा कानून बनाया तो है लेकिन अब जो हुआ उसको क्या माना जाएगा ये आने वाला समय बतायेगा ..

ये मामला है राजस्थान के झालावाड जिले का .राजस्थान जो कांग्रेस द्वारा शासित है और गहलोत और सचिन पायलट के नेतृत्व में ये सरकार खुद को धर्मनिरपेक्ष सरकार बताने और घोषित करने की हर सम्भव कोशिश कर रही है . लेकिन उसी धर्मनिरपेक्षता की आड़ में हो रहा है ये सब कुछ .. यहाँ पर अपने जन्मदिन की पार्टी मना रहे एक बजरंग दल के कार्यकर्ता को इमरान नाम के एक दुर्दांत अपराधी ने गोलियों से भून डाला है जिसके बाद पूरे जिले में आक्रोश फ़ैल गया है .

अपने जन्मदिन की पार्टी मना रहे ऋषिराज के बजरंग दल में होने के कारण तमाम चरमपन्थी जिहादी उसके खिलाफ पहले से ही खुन्नस रखते थे और उन्होंने बहाना बनाया जन्मदिन में बज रहे म्यूजिक सिस्टम का .. और उसी के चलते जन्मदिन की चल रही पार्टी पर हमला बोल कर इमरान और उसके हत्यारे साथियों ने ऋषिराज को मार डाला है . मीडिया रिपोर्टस के हवाले से आ रही खबर के अनुसार खुद झालावाड़ के एसपी राममूर्ति जोशी ने बताया कि घटना सोमवार देर रात की है।

बजरंग दल का कार्यकर्ता रिषिराज जिंदल अपने 15-20 दोस्तों के साथ रिसॉर्ट में पार्टी कर रहा था। इसके बाद रिसॉर्ट के पास रहने वाले इमरान वह उसके तीन भाई वहां पहुंचे और पार्टी बंद करने के लिए कहा . इमरान इस से पहले भी जेल जा चुका था जिसने चाकुओ से गोद कर एक व्यक्ति को पहले ही मार डाला था लेकिन सेक्युलर सरकार में न जाने कैसे इमरान जैसे दुर्दांत अपराधी खुलेआम घूम रहे थे . कुछ देर बार इमरान अपने घर गया और बंदूक के साथवापस आया .

वापस आते ही उसने उन्मादी नारे लगते हुए ऋषिराज पर गोलियों की बौछार कर डाली और गोली बजरंग दल के हिंदूवादी कार्यकर्ता ऋषिराज के सीने को भेद गई . ऋषिराज वही बेहोश हो कर गिर पड़ा जिसको उसके साथी फ़ौरन अस्पताल ले गए . अस्पताल में ऋषिराज ने प्राण त्याग दिए जिसके बाद इस घटना आक्रोषित लोगों ने पीरवा थाने के बाहर प्रदर्शन किया, टायर जलाए. उन्होंने कांग्रेस सरकार के खिलाफ भी नारेबाजी की है .एसपी ने बताया कि आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस की 4 टीमें गठित की गई हैं। पुलिस आरोपियों के संभावित ठिकानों पर दबिश दे रही है लेकिन अभी तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया जा सका। इस घटना को दबाने के भी हर सम्भव प्रयास किये गये .

 

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW