गद्दारों के नापाक समूह का अंतिम चेहरा सदा के लिए दफन.. बुरहान का अंतिम साथी लतीफ़ ढेर

भाड़े में मिले हथियार और भीख में मिले पैसे से खुद को कश्मीर का दहशतगर्द कहलवाने और फोटो खिंचवा कर सोशल मीडिया पर डालने वाली बुरहान गैंग को उस समय अंतिम झटका लगा जब उनकी आतंकी गद्दार टीम का अंतिम साथी लतीफ़ सेना के हाथो घेर कर मार डाला गया .. छिप कर रहने वाले लतीफ़ जैसे डरपोक के नाम के पीछे भी कुछ लोग टाइगर लगाया करते थे लेकिन हिन्द के वीरों ने उसको घेर कर ये साबित कर दिया कि सच्चा टाइगर कौन है ..

विदित हो कि आतंकी संगठन हिजबुल-मुजाहिदीन से संबंधित समूह के आतंकी बुरहान वानी गैंग का अंतिम जीवित सदस्य, लतीफ अहमद डार उर्फ लतीफ टाइगर को शुक्रवार को कश्मीर के शोपियाँ में सुरक्षा बलों द्वारा मुठभेड़ में आखिरकार ढेर कर दिया गया है . इसी मौत के साथ एक बार फिर से आतंकी समूह हिजबुल अनाथ हो गया है और अब उसका कोई भी बड़ा नाम बंदूक उठाने की बात तो दूर , सोशल मीडिया पर अपनी फोटो भी शेयर करने से डरता दिखाई दे रहा है .

ये अभियान 34 आरआर और स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) की संयुक्त टीम द्वारा शोपियाँ जिले के इमाम साहिब के अडखरा इलाके में शुक्रवार सुबह चलाया गया था .. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इसी आतंकी के साथ एक अन्य आतंकी भी मारा गया है जिसके नाम में मौलवी शब्द लगा होता था .. शोपियाँ में हुई मुठभेड़ में लतीफ और तारिक मौलवी नामक एक अन्य आतंकवादी को भी मार गिराया गया है। मारे गए हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी की वायरल ग्रुप फोटो, जो 2015 में सोशल मीडिया पर वायरल हो गई थी, उसके पास कश्मीर में ‘नए जमाने के आतंकवाद’ के जन्म की घोषणा करने के लिए केंद्र में बुरहान के साथ हथियार और गोला-बारूद से लैस 11 आतंकवादी थे।

Share This Post