अब पाक के आए रोने के दिन, कश्मीर में एक-दूसरे को ही मारने पर उतारू हुए आतंकी, जानें क्या है पूरा मामला…

नई दिल्ली : आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के दो टॉप सरगनाओं में तनातनी की खबर आई है। ऐसी खबर है कि हाफिज सईद और जकीउर रहमान लखवी में मतभेद पैदा हो गए हैं। भारतीय खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट के मुताबिक, दोनों आतंकवादियों के बीच कश्मीर में हिंसा फैलाने के तरीके को लेकर मतभेद होने की बात कही गई है।

ऐसी भी जानकारी मिल रही है कि लश्कर कश्मीर के कुछ अलगाववादी नेताओं की हत्या कर घाटी में आशांति को और भड़काने की फिराक में है। हालांकि, भारतीय सुरक्षा एजेंसियां इसे लेकर अलर्ट हो गई हैं। इसके साथ ही लश्कर-ए-तैयबा ने फैसला किया है कि अब भारत में आतंकी हमले की जिम्मेदारी लेने के समय वह खुद अपने संगठन का नाम इस्तेमाल नहीं करेगा। वह इसकी जगह ‘स्वदेशी समूह’ जैसे लगने वाले संगठन ‘क्विट कश्मीर मूवमेंट’ के नाम का यूज करेगा।

रिपोर्ट के मुताबिक, 26/11 के मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड लखवी और हाफिज सईद में कलह की उपज पाकिस्तान सरकार द्वारा हाफिज पर शिकंजा कसने के साथ ही होने लगी। अंतर्राष्ट्रीय दबाव के चलते पाकिस्तान ने हाफिज को भारत में आतंकी हमलों में सीधे शामिल होने से मना किया है। इसके बाद से ही हाफिज सईद इस बात को लेकर काफी सचेत हो गया है कि उसका या उसके संगठन का नाम किसी भी प्रकार से भारत में हो रहे आतंकी हमलों में ना आए।

सूत्रों के मुताबिक, सुरक्षा बल इस खुफिया जानकारी पर सावधानी बरत रहे हैं। पिछले हफ्ते संसद में सरकार द्वारा दिए गए आंकड़ों के मुताबिक, हाल के दिनों में घुसपैठ के प्रयासों में तेजी आई है। 2015 में जहां घुसपैठ की 121 घटनाएं सामने आई थी, वहीं 2016 में यह आंकड़ा बढ़़कर 371 हो गया। इसके अलावा कश्मीरी युवक का रूझान आतंकवाद की ओर तेजी से बढ़ा है। 2013 में 16, 2015 में 66 और साल 2016 में 88 युवकों ने आतंकवाद के रास्ते चले।

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW