जब zomato पर आरोप अमित शुक्ला ने लगाया तो वो खड़े हुए zomato के साथ .. अबकी आरोप लगाया है मोहसिन अख्तर ने.. अब वो किस के साथ हैं ?

अभी ज्यादा समय नहीं बीता है zomato विवाद को . ये वो विवाद था जिसमे व्यवसाय से चला ये मामला धर्म तक आया और कांग्रेस पार्टी कई लोगों ने इसको राष्ट्रीय स्तर का राजनैतिक विवाद बना डाला था … उस समय बाकायदा नाम आदि देख कर विवाद को हवा दी गई थी और मामले में अमित शुक्ला का नाम सबसे ज्यादा चर्चा में आया था . अमित शुक्ला तो बार बार व्रत में और सावन मान में गैर हिन्दू के हाथ से खाना न लेने की दलील देते रहे लेकिन शोर मचाने वाले वर्ग ने अमित को ही गलत माना था .

लेकिन अब उसी वर्ग के आगे एक धर्मसंकट जैसा आ चुका है . इस बार फिर से zomato विवाद के चलते चर्चा में आ चुकी है . zomato के ऊपर इस बार आरोप किसी ग्राहक अमित शुक्ल ने नहीं बल्कि खुद उसी कम्पनी में काम करने वाले मोहसिन ने लगाया है और कहा है कि वो एक मुस्लमान हैं लेकिन उनको zomato कम्पनी सूअर का मांस जबरदस्ती ले जाने के लिए दबाव बनाती है जो उसके लिए किसी भी हाल में सहन करने योग्य नहीं है क्योकि ये सब उसकी मजहबी भावनाओ के खिलाफ है .

मोहसिन के इस आरोप के बाद अचानक ही सन्नाटा जैसे छा गया है. कश्मीर से ले कर मुंबई तक zomato को मिलने वाला समर्थन अब सिमटता हुआ दिखाई दे रहा है . खाने का धर्म नही होता का नारा देने वाले zomato को अब ये साबित करने में दिक्कत आ रही है कि सूअर का मांस मुसलमान क्यों नहीं ले जा सकता जबकि कईयों के लिए सूअर का मांस भी एक खाना होता है .. फ़ूड डिलीवरी ऐप जोमाटो ने फिर से सुर्खियां बटोरी क्योंकि हावड़ा में इसके अधिकारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए और गोमांस और सुअर का मांस वितरित करने के विरोध में प्रदर्शन किया।

Share This Post