कभी सुदर्शन पर उंगली उठाने वाले कांग्रेसी नेता दिग्विजय सिंह का पूरा हाथ मिला नक्सल कनेक्शन में.. भीमा कोरेगांव में कांग्रेसी पांव

भीमा-कोरेगांव हिंसा को लेकर पुणे पुलिस की जांच में सनसनीखेज खुलासा हुआ है. भीमा कोरेगांव हिंसा में कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह का नक्सलियों से कनेक्शन सामने आया है. ये वही दिग्विजय सिंह हैं जिन्होंने सुदर्शन न्यूज़ पर उस समय उंगली उठाई थी जब सुदर्शन इस्लामिक आतंकी जाकिर नाइक को देश के सामने एक्सपोज कर रहा था. जाकिर नाइक के काले कारनामों को जब सुदर्शन देश के सामने लाया तथा जाकिर के टीवी चैनल पीस टीवी पर कार्यवाई हुई तो दिग्विजय सिंह को काफी तकलीफ हुई थी तथा उन्होंने सुदर्शन पर कार्यवाई की मांग की थी. जिन दिग्विजय ने कभी सुदर्शन पर उंगली उठाई थी आज भीमा कोरेगांव हिंसा में दिग्विजय का पूरा हाथ निकला है.

खबर के मुताबिक़, कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के कथित नक्सल लिंक के आरोपों के बीच भीमा-कोरेगांव केस की जांच कर रही पुणे पुलिस ने चौंकाने वाला खुलासा किया है. पुणे पुलिस का दावा है कि भीमा-कोरेगांव हिंसा से जुड़ी तफ्तीश के दौरान जब्त एक पत्र से मिला मोबाइल नंबर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह का है. इस मसले पर सोमवार को पुणे में डीसीपी सुहास बावाचे ने मीडिया को संबोधित किया. उन्होंने बताया कि एल्गार परिषद केस (भीमा-कोरेगांव हिंसा) की जांच के दौरान जब्त दस्तावेज और कंप्यूटर से जो नाम, नंबर और पते मिले हैं, उन सभी की पुष्टि कर ली गई है.

डीसीपी ने बताया कि किसी भी मोबाइल नंबर या उससे जुड़े व्यक्ति का जांच के दौरान अगर इस सिंडिकेट से लिंक पाया जाता है, तो उनके विरुद्ध कानून कार्रवाई की जाएगी. माना जा रहा है कि दिग्विजय सिंह के नंबर का खुलासा होने के बाद उन्हें केस की जांच से जुड़ने के लिए समन भी किया जा सकता है. बताया जा रहा है कि जिस पत्र में कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह का नंबर लिखा पाया गया है, वह भीमा-कोरेगांव हिंसा केस में गिरफ्तार वकील सुरेंद्र गाडलिंग के घर से जब्त किया गया था. दावा है कि ये पत्र कॉमरेड प्रकाश ने सुरेंद्र गाडलिंग को लिखा था. लेटर में ये भी लिखा है कि इस प्रक्रिया में हमारी मदद के लिए कांग्रेस नेता भी इच्छुक हैं. ऐसा लिखते हुए आगे एक मोबाइल नंबर लिखा गया है और कहा गया है कि मदद के लिए इस पर संपर्क कर सकते हैं. जिस नम्बर  संपर्क करने के लिए कहा गया था वो नंबर दिग्विजय सिंह का था.

Share This Post