Breaking News:

गूंजने लगे गोडसे… साध्वी प्रज्ञा, उषा ठाकुर के बाद अब IAS अधिकारी का ट्विट – “महान थे नाथूराम, नोट से हटें गांधी”

गांधी के वध के लिए नाथूराम गोडसे को बहुत पहले ही फांसी की सजा दी जा चुकी है और उसके बाद से गोडसे उपनाम भी भारत की संसद में उस समय के तथाकथित सेक्युलर नेताओं ने प्रतिबंधित कर रखा था.. हर वो कोशिश की गई जिस से नाथूराम गोडसे का कोई भी नाम लेने वाला न बचे और इसके चलते उन पर लिखी तमाम किताबें भी सामने नहीं आने दी गई और न ही उनका अदालत में दिया गया बयान .. लेकिन समय के साथ अब वो बदलाव देखा जा रहा जो कभी गोडसे कह कर गये थे .

कभी नाथूराम गोडसे ने कहा था कि उन्हें पता है कि गांधी को मार कर उन्हें समाज हत्यारा और देशद्रोही कहेगा.. उन्होंने ये भी कहा था कि आने वाले समय में जब सच्चा इतिहास लिखा जाएगा तब समाज का एक वर्ग उनके कार्यों को समझेगा .. नाथूराम गोडसे विभाजित भारत के बाद पाकिस्तान को दिए जाने वाले करोड़ों रूपये की तैयारी और उसके लिए गांधी द्वारा किये जा रहे हठ से नाराज थे . इतना ही नहीं वो गांधी के एकतरफा तुष्टिकरण की नीति को भी हिन्दू समाज के लिए गलत मानते थे .

अखंड भारत की कल्पना के साथ फांसी पर चढ़े नाथूराम गोडसे एक बार फिर से देश में चर्चा का विषय बने हुए हैं . सबसे पहले साध्वी प्रज्ञा ने उन्हें आतंकी मानने से मना कर दिया और उनको देशभक्त बताया तो कांग्रेस ने इसको चुनावी मुद्दा बनाया .. फिर भी साध्वी प्रज्ञा प्रचंड बहुमत से जीत कर आई… इसके बाद मध्य प्रदेश से ही भाजपा विधायक उषा ठाकुर ने नाथूराम गोडसे को महान बताया जिसका अब तक विरोध हो रहा है .. यद्दपि साध्वी प्रज्ञा को मिले प्रचंड बहुमत के बाद अब कांग्रेस ने वो आक्रामकता नहीं दिखाई है .

इसी बीच में अब एक IAS अधिकारी के ट्विट ने फिर से मचा दिया है हंगामा . शोर मचता देख कर भले ही IAS अधिकारी ने अपना ट्विट डिलीट कर दिया हो लेकिन तब तक राजनैतिक घमासान मच चुका था .  महाराष्ट्र की IAS अफसर निधि चौधरी के एक विवादित ट्वीट के कारण राज्‍य में बवाल मच गया है. अब उन्‍हें बर्खास्‍त करने की मांग उठ रही है. IAS निधि चौधरी ने एक ट्वीट के ज़रिए लिखा, बापू के दुनिया भर में लगे पुतले हटाये जाएं. रास्ते पर दिया गया उनका नाम हटाया जाए. महात्मा गांधी के नोट पर लगे फ़ोटो भी हटाए जाएं. शुक्रिया गोडसे. निधि चौधरी नवी मुंबई महानगरपालिका में एडिशनल कमिश्नर हैं. उनके इस ट्वीट के बाद विवाद बढ़ गया है. अब उनको बर्खास्‍त करने की मांग उठ रही है. एनसीपी नेता जितेंद्र आव्हाड ने कहा है कि महाराष्‍ट्र सरकार उन पर तत्‍काल प्रभाव से कार्रवाई करे.

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW