भाजपा के संकल्प पत्र पर हमलावर हुए विरोधी, आप ने घोषणा को बताया झूठा, तो कांग्रेस ने मांगा पिछले वादों का हिसाब

नई दिल्ली : दिल्ली नगर निगम चुनावों के लिए भारतीय जनता पार्टी ने अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया है। घोषणा पत्र जारी होते ही विरोधी दलों ने बीजेपी पर आरोपों की बौछार कर दी। आप पार्टी का कहना है कि बीजेपी के घोषणा पत्र झूठे है और इसे विफलताओं का दस्तावेज़ बताया।

इसमें कांग्रेस ने भी कहा कि पार्टी ने पहले भी एमसीडी चुनाव में वादे किए थे लेकिन इन वादों को चुनाव तक ही सीमीत रखा गया और जब चुनाव खत्म हो गया तो वादे भी भुला दिए। आप के अधिकारी संयोजक दिलीप पांडे ने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के मकान को टैक्स खत्म करने पर बीजेपी सवाल उठा रही है, जबकि उसने 2007 के अपने चुनाव घोषणापत्र में ऐसा ही वादा किया था। बता दें कि कांग्रेस के अध्यक्ष अजय माकन ने कहा कि बीजेपी के घोषणापत्र को तीनों नगर निगमों में पार्टी के दस वर्ष के शासन के परिप्रेक्ष्य में देखना चाहिए जो भ्रष्टाचार से ग्रस्त रहा है। कांग्रेस ने आरोप लगाया कि बीजेपी ने नगर निगमों को लूट-लूट कर खाली कर दिया है। इसके अलावा योगेंद्र यादव के नेतृत्व वाली स्वराज इंडिया ने भी बीजेपी के घोषणा पत्र को झूठ और अधूरे वादों का पुलिंदा बताया है।

गौरतलब है कि दिल्ली बीजेपी प्रमुख मनोज तिवारी ने एमसीडी चुनावों के लिए पार्टी का घोषणा पत्र जारी करते हुए अपने वादों में गौरक्षा को शामिल किया है। पार्टी ने कहा है कि अगर वह सत्ता में आती है तो तीनों नगर निगमों में गायों की रक्षा की दिशा में काम करेगी। वहीं, भोजपूरी के मशहूर और भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने संपल्प पत्र को जारी करते हुए कहा कि दिल्ली को विश्वस्तरीय बनाने का वादा किया है और साथ ही दिल्ली के सभी वर्गो की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए अपना संकल्प पत्र तैयर किया है।

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW