कुलभूषण केस में पाक ने नकारा ICJ का फैसला, अब क्या होगी उसकी अगली चाल…

आखिरकार हर बार की तरह इस बार भी पाकिस्तान को मुंह की खानी पड़ी। इंटरनेशनल कोर्ट ने पाकिस्तान को झटका देते हुए भारत के पक्ष अपना फैसला सुनाया है। कोर्ट ने भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव की फांसी टालने के आदेश दिए हैं। वहीं, पाकिस्तान ने ICJ के फैसले को पूरी तरह से नकार दिया है। पाक ने कहा है कि वह ICJ के अधिकार क्षेत्र को नहीं मानता है। अब यहीं देखना होगा कि पाकिस्तान के इस रवैये के बाद अब भारत का अगला कदम क्या होगा। आपको बता दें कि भारत और पाकिस्तान के बीच कुलभूषण जाधव को लेकर काफी समय से तनाव भी चल रहा है। 
भारत ने कई बार कुलभूषण जाधव के बारे में पाकिस्तान से जानकारी भी लेनी चाही लेकिन पाकिस्तान किसी भी बात का जवाब देने से इंकार कर दिया। पाकिस्तान को लग रहा था कि वो भारत के इस शेर को कैद करके रख लेगा लेकिन वो शायद ये भूल चुका था कि शेर को कोई कितना भी चाहे कैद करके नहीं रख सकता। और यही हुआ वास्तव में कुलभूषण के केस में भी। आखिर भारत का शेर गीदड़ों के उस साजिश से बाहर निकल ही गया। जी हां कुलभूषण जाधव को अन्तर्राष्टीय कोर्ट ने भी निर्दोष करार कर दिया है। कोर्ट ने पाकिस्तान के दवारा कुलभूषण जाधव पर लगाए हर आरोप को बेबुनियाद बताया है। 
ज्ञात हो कि पाकिस्तान ने कुलभूषण जाधव को एक जासूस बताया था और इन्हीं आरोपों के चलते पाकिस्तान ने कुलभूषण को फांसी की सजा भी सुनाई थी। लेकिन पाकिस्तान शायद भूल चुका था कि वो भारत के सामने आज तक नही टिका तो अब कैसे…..
भारत ने कुलभूषण जाधव को बचाने के लिए अन्तर्राष्टीय कोर्ट का दरवाजा खटखटाया और आखिरकार वहीं हुआ जो कि हर बार होता है। हर बार की तरह इस बार भी पाकिस्तान को भारत से हार झेलनी पड़ी। अंतर्राष्टीय कोर्ट ने कुलभूषण जाधव के केस में भारत के हक में फैसला सुनाया और कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा टाल दी गई। इसी के साथ कोर्ट ने ये भी कहा कि जब तक कोर्ट का आगे से कुछ फैसला नही आता है तब तक कुलभूषण की फांसी पर रोक रहेगी। ये फैसला अंतर्राष्टीय कोर्ट के न्यायधीश रॉनी अब्राहम ने दिया है। आपको बता दें कि भारत और पाकिस्तान के बीच वियना संधि है जिसपर 29 अप्रैल 1996 को दोनों देशो ने हस्ताक्षर भी किय थे और भारत ने इस मामले को वियना संधि के तहत ही कोर्ट के सामने रखा है।  
 
आगे हम आपको कुलभूषण जाधव के केस की पूरी सुनवाई के दौरान हुई बातों को भी बताऐंगे कि कब क्या कहा कोर्ट ने….
– हेग स्थित अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के जस्टिस रॉनी अब्राहम ने अपना फैसला सुनाते हुए कहा कि भारत ने बताया कि कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान ने गिरफ्तार किया था। गिरफ्तारी के बाद भारत ने कई बार जाधव के बारे में जानकारी मांगी लेकिन पाकिस्तान ने कोई जानकारी नहीं दी।
– कोर्ट ने कहा कि भारत को कुलभूषण जाधव मामले में कॉन्सुलर एक्सेस मिलना चाहिए।
 
– कोर्ट ने कहा कि पाकिस्तान को कुलभूषण जाधव को जासूस बताने का हक नहीं है। पाकिस्तान का कुलभूषण जाधव को गिरफ्तार करना एक विवादित मुद्दा है।
 
– जस्टिस अब्राहम ने कहा कि कुलभूषण जाधव पर पाकिस्तान जो भी दावा कर रहा है, वह मान्य नहीं है।
– ICJ ने कहा कि कोर्ट को कुलभूषण जाधव मामले में अपना फैसला सुनाने का पूरा अधिकार है।
– कोर्ट ने कहा कि जाधव पर अपील तय सीमा पर दायर करनी चाहिए थी। कोर्ट को सभी मामले में हस्तक्षेप करने का हक नहीं है। हालांकि, कोर्ट ने यह कहा कि इंटरनेशनल कोर्ट के आखिरी फैसले तक कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगाई जाती है।
 
– कोर्ट ने भारत की मांगो को नियमों के अनुसार बिल्कुल सही ठहराया है। कोर्ट ने कहा है कि वियना संधि के तहत भारत को अपने नागरिक की मदद करने की पूरी अधिकार है।
– कोर्ट ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच 2008 में जो भी समझौता हुआ है, उस समझौते को अनुच्छेद 36 के तहत लागू करना सही नहीं होगा।
 
– कोर्ट ने पाकिस्तान से साफतौर पर कहा कि जब तक इंटरनेशनल कोर्ट का आखिरी फैसला नहीं आता है, तब तक पाकिस्तान कुलभूषण जाधव को पूरी सुरक्षा मुहैया कराये। 
– भारत के निवेदन के बाद कोर्ट ने कहा कि इंटरनेशनल कोर्ट के अंतिम फैसले तक पाकिस्तान की सरकार कुलभूषण जाधव पर कोई  कार्रवाई ना करे।
 
– कोर्ट ने भारत का पक्ष लेते हुए कहा है कि भारत के द्वारा जो भी पक्ष रखें है वो सभी अपनी जगह बिल्कुल सही है और इससे भारत का पक्ष काफी मजबुत दिखाई पड़ता है। 
– कोर्ट ने ये भी कहा है कि भारत ने कुलभूषण जाधव की सुरक्षा को लेकर संशय भी जाहिर किया है पाकिस्तान अपनी हरकतों से कभी भी बाज नही आ सकता है भारत को शक है कि पाकिस्तान कभी भी कुलभूषण को फांसी दे सकता है लेकिन इसपर पाकिस्तान ने कोर्ट को भरोसा दिलाया है कि कुलभूषण जाधव को अगस्त 2017 तक फांसी नही दी जाएगी।
Share This Post