Breaking News:

भारतीय रेलवे में काम कर रहे कई पाकिस्तानी जासूस.. बाकायदा आते हैं पाकिस्तान से फोन.. जानिये क्यों उखड़ रही पटरियां और पलट रही ट्रेनें

आखिर भारत में अक्सर ट्रेन की पटरियां क्यों उखड़ जाती हैं, आखिर क्यों ट्रेनें पलटने की ख़बरें आती हैं, इसके बारे में बड़ी खबर सामने आई है. इस खबर के सामने आने के बाद रेलवे का खुफिया विभाग सतर्क हो गया है. खबर के मुताबिक़, भारतीय रेलवे में पाकिस्तान के कई जासूस काम कर रहे हैं, जिनके पास बाकायदा पाकिस्तान से फोन आते हैं. ये लोग भारत के दुश्मन इस्लामिक आतंकी संगठनों के लिए काम कर रहे हैं.

अब प्राइवेट कंपनियों में काम करने वाले के लिए खुशखबरी..

बता दें कि जम्मू-कश्मीर (वैली) में सिग्नल विभाग में तैनात रेल डिवीजन फिरोजपुर के रेलकर्मी मुद्दसर रशीद पुत्र अब्दुल रशीद भट्ट वासी पुलवामा जनवरी 2019 में आतंकी संगठन में शामिल हो गया था. वह रेलवे में अपने कार्यकाल के दौरान भी आतंकी संगठनों के लिए जासूसी करने के अलावा उनकी हर वारदात में मदद करता था. मीडिया सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक़, लकर्मी गुरनाम सिंह ने बताया कि कुछ माह पहले उनके मोबाइल फोन पर पाक से कॉल आती थी. उसे कई तरह के लालच दिए जाते थे. इस संबंध में उन्होंने अपने संबंधित अधिकारियों को सूचित किया था.

अब ऑनलाइन आयेगा चालान का मेसेज और कार्ड से करना होगा भुगतान..

उन्होंने बताया है कि ऐसी कॉल कई रेलकर्मियों को आई थीं. सेना की कौन-कौन सी स्पेशल ट्रेनें इधर से उधर चलती हैं, ऐसी जानकारी पाक उनसे चाहता था. बता दें कि हाल ही में अटारी अंतरराष्ट्रीय रेलवे स्टेशन पर कार्यरत एक गेटमैन शक के दायरे में आया है जिसे गिरफ्तार किया गया है. उसके पास से कई संदिग्ध दस्तावेज बरामद हुए हैं, जो देश की सुरक्षा से जुड़े हैं. उसकी 2016 में रेलवे में नौकरी लगी थी और उसे अटारी रेलवे स्टेशन पर प्वाइंट मैन के पद पर 2016 में ही तैनात किया था. ये नौकरी अतिसंवेदनशील है. इस पर रहते हुए पाक या किसी आतंकी संगठन के इशारे पर रेल पटरी में कोई भी खराबी पैदा कर दौड़ती ट्रेन को नुकसान पहुंचाया जा सकता है.

पवित्र सावन माह में तेजोमहालय की परिक्रमा कर के आरती करने का एलान करने वाले नेता को शिवसेना ने निकाला

इससे पहले जम्मू-कश्मीर (वैली) के सिग्नल विभाग में तैनात रेल डिवीजन फिरोजपुर के पुलवामा निवासी मुद्दसर रशीद पुत्र अब्दुल रशीद भट्ट चार माह तक गैरहाजिर रहा. इस बीच उसने एके-47 के साथ अपनी फोटो सोशल मीडिया पर अपलोड करके आतंकी बनने की बात स्वीकार कर ली. इस संबंध में गृह मंत्रालय से रेल डिवीजन फिरोजपुर के अधिकारियों को एक पत्र भेजा था और उसके बाद रशीद को नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया था.

अगले 10 साल में क्या होगी रेलवे की सूरत..जानिए मोदी सरकार का प्लान…

अभी तक ये दो मामले सामने आए हैं और पता नहीं ऐसे और कितने मामले होंगे, जिनके बारे में किसी को कोई खबर नहीं है. हाल ही में अटारी बॉर्डर से गिरफ्तार हुए गेटमैन की निशानदेही पर अटारी सेक्टर की कई अति संवेदनशील चौकियों की वीडियो व फोटो भी बरामद की गई हैं. वह अटारी रेलवे स्टेशन, उसके आसपास के स्टेशन, खासा स्थित बीएसएफ व आर्मी के मुख्यालयों और समझौता एक्सप्रेस की वीडियो आईएसआई को भेज चुका है. इसके अलावा जब भी अटारी रेलवे स्टेशन पर कोई अति महत्वपूर्ण अधिकारी आता था, वह उसकी वीडियो भी पाकिस्तान भेजता था. सुरक्षा एजेंसियों ने दौसा स्थित उसके घर में छापामारी के लिए एक टीम भी रवाना कर दी है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW