सोनिया गांधी के आरोपों पर रेलमंत्री पियूष गोयल का पलटवार.. रेलवे के निजीकरण का लगाया था आरोप

रायबरेली कोच फैक्ट्री के निगमीकरण के मुद्दे पर कांग्रेस सांसद व सप्रंग अध्यक्ष सोनिया गाँधी द्वारा लगाये गये आरोप पर रेल मंत्री पियूष गोयल ने चुप्पी तोड़ी और पलटवार किया. सोनिया गांधी के आरोप पर पलटवार करते हुए रेलमंत्री पियूष गोयल ने कहा है कि कांग्रेस सरकार ने सिर्फ कोच फैक्ट्री कि घोषणा की थी पर दी सरकार द्वारा शुरू किया गया है.

आतंक का फन कुचलना कैसे है कोई सीखे श्रीलंका से.. ईस्टर हमला न रोक पाने वाला पूर्व पुलिस प्रमुख गिरफ्तार.. एक बड़ा अधिकारी भी जेल में

बता दें कि सोनिया गांधी ने अपने संसदीय चेत्र रायबरेली में रेल कोच फैक्ट्री के निगमीकरण मुद्दे को मंगलवार को लोकसभा में उठाया था. उन्होंने यह आरोप लगाया था कि सरकार कि मंसा इस फैक्ट्री को निजीकरण करने का है. सोनिया गांधी ने सरकार पर रेलवे की बहुमूल्य संपत्तियों को निजी क्षेत्र के चंद हाथों को कौड़ियों के दाम पर बेचने का आरोप लगाया था और इस बात पर अफसोस जताया था कि सरकार ने निगमीकरण के प्रयोग के लिए रायबरेली के मॉडर्न कोच कारखाने जैसी एक बेहद कामायाब परियोजना को चुना है. उन्होंने निगमीकरण को निजीकरण की शुरुआत करार दिया था.

मजहबी उन्मादियों ने फिर दी हिन्दू आस्थाओं को चुनौती.. दिल्ली के बाद अब मुजफ्फरनगर के मंदिर में तोड़फोड़

लोकसभा में शून्यकाल के दौरान एक सवाल के जवाब में रेलमंत्री पियूष गोयल ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने जिस प्रकार ११ साल पहले इस फैक्ट्री का उद्घाटन किया था, वही काम मोदी सरकार ने शासन में शुरू हुआ. कांग्रेस राज में सिर्फ घोषणाएं हुई है पर काम की शुरुआत २०१४ से शुरू हुई है. रेलमंत्री गोयल ने कहा कि निगमीकरण को लेकर कांग्रेस की दोहरी नीति है.

संसार के समस्त धार्मिकों को भगवान जगन्नाथ रथयात्रा की हार्दिक बधाई व शुभकामनाएं.. रथयात्रा पर संकल्प लें धर्मरक्षा का

उन्होंने कहा कि संप्रग की पहली सरकार के वित्त मंत्री ने बजट में रेलवे में विनिवेश और निजीकरण की बात की थी. रेल मंत्री ने कहा कि जिस रेलवे कोच कारखाने की बात की गई उसकी घोषणा 2008 में की गई थी और 2014 तक कुछ नहीं हुआ. मोदी सरकार आने के बाद इसमें काम आरंभ हुआ. पिछले साल ही ही कारखाने में 1422 कोच का विनिर्माण किया गया.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW