Breaking News:

आगरा में साबित हुआ लैंड जिहाद का सच… रतन देवी का प्लाट अपना बता रहा इश्त्याक. कश्मीरी अंदाज में पत्थरबाजी

आक्रान्ताओं का दिन ब दिन अत्याचार बढ़ता जा रहा है. अब ‘लव जिहाद’ के बाद इनका ‘लैंड जिहाद’ चालू हो गया है. ज्ञात हो कि मामला आगरा के थाना शाहगंज

स्थित नरीपुरा का है. जहां 12 बीघा में गुरुवार सुबह 50 गज के प्लाट पर कब्जे के लिए कट्टरों ने परिवार पर हमला बोल दिया. उसके बाद दूसरे पक्ष के लोग भी

उग्र हो गए और मामला साम्प्रदायिक रंग ले लिया जिसके बाद हालात बेकाबू हो गए.
मिली जानकारी के मुताबिक इस हमले में 6 लोग घायल हो गए.

सूचना पर कई थानों की पुलिस फोर्स के साथ सीओ सदर उदयराज सिंह पहुंच गए. इस पर

बवाली भाग खड़े हुए. वहीं दोनों पक्षों के 10 लोगों के खिलाफ शांति भंग में कार्रवाई की गई है.
आपको बता दे कि नरीपुरा 12 बीघा में श्मशान घाट के पास तकरीबन 50 गज का प्लाट है. प्लाट में 85 वर्षीय रतन देवी पत्नी राम सिंह झोपड़ी डालकर रह रही

हैं. रतन देवी का कहना है कि ‘वह 35 साल से इसी प्लाट में रह रही हैं.

प्लाट उनके नाम पर है. तीन बेटियों की शादी यहीं से की है. बेटे सतीश और गुलाब

मोहल्ले में अपने-अपने मकान में रहते हैं. छह साल पहले पति की मौत हो गई थी. तब से वह अकेली रह रही हैं. अब उस जगह को पूर्व पार्षद पप्पू उस्मानी

अपने भाई इश्त्याक की पत्नी रजिया के नाम पर बता रहें है.
गुरूवार को 11 बजे इश्त्याक पक्ष के लोग आ गए. रतन देवी को जबरन निकालने का प्रयास करने लगे. उसका सामान भी फेंक दिया.

इस बात को लेकर लोग

इक्कठे हो गए. इससे विवाद होने लगा. दोनों समुदाय के लोगों के आने पर मारपीट के बाद पथराव शुरू हो गया.
सूत्रों के मुताबिक तकरीबन आधा घंटे तक ईंट पत्थर फिंकाई की गई. इससे मोहल्ले में अफरातफरी मच गई. लोगों ने घरों में छिपकर खुद को बचाया. सूचना पर

पहुंची पुलिस को देखकर आरोपी भाग गए. 

Share This Post