Breaking News:

पाकिस्तान से पहले एक भारतीय नेता ने कहा- “नहीं मानता सर्जिकल स्ट्राइक को”.. उसकी पार्टी इस बार आना चाहती है सत्ता में

जब भारतीय सेना ने 2 साल पहले उड़ी हमले के बाद POK में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक की थी तथा नापाक मुल्क पाकिस्तान द्वारा संरक्षित इस्लामिक आतंकियों को मार गिराया था. इसके बाद खुद भारतीय सेना ने मीडिआ के सामने आकर कहा था कि सेना ने POK में सर्जिकल स्ट्राइक की है. सेना द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक के बाद जहाँ पूरा राष्ट्र एक सुर में भारतीय सेना के शौर्य, साहस व पराक्रम को सेल्यूट किया था लेकिन दुर्भाग्य इस देश की राजनीति का जो देश के तमाम राजनेताओं ने सेना के शौर्य पर सवाल उठाते हुए इस सर्जिकल स्ट्राइक को फर्जी करार दिया था. इन नेताओं में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल तथा कांग्रेस पार्टी के नेता शामिल थे.

लेकिन अब सर्जिकल स्ट्राइक के लगभग दो साल बाद एक बार से सर्जिकल स्ट्राइक की यादें ताजा हो गयीं जब सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो जारी किया गया. सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो सामने आने के बाद उन नेताओं के मुंह बंद हो गए जो इस कार्यवाही पर सवाल उठा रहे थे. वीडियो में साफ़ देखा जा सकता है कि किस तरह भारतीय सेना के जांबाजो ने बिना अपनी किसी छति के इस अभियान को अंजाम दिया था ठका पकिस्तान में खलबली मचा दी थी. लेकिन इस वीडियो के सामने आने के बाद एक बार फिर से देश की राजनीति खिलाफ खड़ी हुई है भारतीय सेना के तथा सर्जिकल स्ट्राइक के इस विडिओ को करार दिया गया है फेक. आश्चर्य की बात ये है कि जिस नेता ने सर्जिकल स्ट्राइक के वीडियो को फर्जी करार दिया है उस नेता की पार्टी २०१९ में सत्ता में आना चाहती है. सेना पर एक बार फिर से सवाल उठाने वाला नेता है कोंग्रेसी नेता संजय निरूपम.

जिस कांग्रेस ने उस समय भी सर्जिकल स्ट्राइक को फर्जी करार दिया था, उसी कांग्रेस ने वीडियो सामने आने के बाद भी सेना पर सवाल खड़े किये हैं. कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता संजय निरूपम ने सर्जिकल स्ट्राइक पर बयान देते हुए कहा है कि सर्जिकल स्ट्राइक तो फर्जी है ही लेकिन इसके साथ ही प्रधानमंत्री मोदी जी तथा उनकी सरकार भी फर्जी है. समझ नहीं आ रहा है कि देश की राजनीति किस दिशा में जा रही है जो व्यक्तिगत राजनैतिक विरोध में उस सेना के शौर्य पर सवाल खड़े करती है जो सेना अपनी जान पर खेलकर हिंदुस्तान तथा हिन्दुस्तानियों की रक्षा करती है जिसमें खुद संजय निरूपम तथा उनकी कांग्रेस पार्टी शामिल है.

Share This Post