हर दिन सैनिको की हत्या पर बोले कि – ‘आतंक का कोई धर्म नहीं” .. लेकिन अपने कार्यालय पर उग्र प्रदर्शन हुआ तो बोले – “क्या यही है हिंदुत्व” ?

पिछले 70 वर्षो से उन्होंने सत्ता में सीधी भागीदारी निभाई है, उन्होंने कई युद्ध देखें हैं और कई आतंकवाद मामलो के प्रत्यक्षदर्शी गवाह बने हैं लेकिन उनका बार बार रटा रटाया बयान आता रहा कि आतंकवाद का कोई धर्म नहीं है . लेकिन बीच में ही उन्होंने भगवा आतंकवाद का एक मनगढ़ंत शब्द उछाला और हिन्दू आतंकवाद जैसे शब्द मंच से कहे.. अभी लगातार पत्थरबाजी और जिहादी हमलो से सैनिको के प्राण जा रहे हैं लेकिन अचानक ही अपने कार्यालय पर हुए एक उग्र प्रदर्शन को उन्होंने सीधे सीधे हिन्दू और हिंदुत्व से जोड़ दिया .. यहाँ बात चल रही है देश की सबसे पुरानी राजनैतिक पार्टी कांग्रेस की .

ज्ञात हो कि अपने हिन्दू विरोधी बयानों के लिए आज लक दुनिया में चर्चित होते जा रहे शशि थरूर एक बार फिर से उगल रहे हैं हिन्दू समाज के खिलाफ जहर . एक सोची समझी विचारधारा को आगे बढ़ाते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर ने फिर से हिन्दुओ को निशाने पर लेते हुए हिन्दू समाज को निशाना साधा है . केरल के तिरुवनंतपुरम स्थित शशि थरूर के दफ्तर पर सोमवार को उनके बयान से आहत कुछ लोगों ने हमला कर दिया। भारी नारेबाजी के बीच प्रदर्शनकारियो ने हिन्दू समाज के खिलाफ बयानबाजी करने वाले शशि थरूर के कार्यालय के गेट पर लगे होर्डिंग पर बनी थरूर की तस्वीर कालिख भी फेंकी।

अचानक ही शशि थरूर ने इस घटना में धर्म तक खोज लिया और अपने ट्विटर पर लिखा, कि  ‘बीजेपी कार्यकर्ताओं ने मेरे दफ्तर पर हमला किया। लोग यहां कुछ परेशानियां लेकर आए थे, लेकिन आपने उन्हें डरा कर भगा दिया। क्या हम अपने देश में यही सब करना चाहते हैं? मैं एक सांसद की तरह नहीं बल्कि एक नागरिक की तरह यह पूछ रहा हूं। मैं जिस हिंदुत्व को जानता हूं वह तो ऐसा नहीं है।’  शाशि थरूर ने हिन्दू समाज से सवाल किया कि क्या यही हिंदुत्व है ? हैरानी की बात ये है कि आज तक आतंकवाद का धर्म न खोज पाए शाशि थरूर ने इस मामले में हिंदुत्व खोज लिया .. 

Share This Post

Leave a Reply