जो गाय और सुअर दोनों का मांस खाता था वो कैसा पंडित ?… नेहरू पर भाजपा विधायक का सबसे बड़ा वार

देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू तथा पूरे नेहरू-गांधी खानदान जी जाती-गोत्र धर्म आदि को लेकर सोशल मीडिया पर तमाम तरह की खबरें चलती रहती हैं तथा तमाम सवाल खड़े किये जाते हैं. लेकिन अब राजनैतिक क्षेत्र से नेहरू पर सीधा वार हुआ है तथा ये वार किया है राजस्थान के भाजपा विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने. ज्ञानदेव आहूजा ने नेहरू पर टिप्पणी करते हुए कहा है कि नेहरू गौमांस भी खाते थे तथा सुअर का मांस भी खाते थे इसलिए वह पंडित नहीं हो सकते.

राजस्थान की रामगढ़ विधानसभा सीट से विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने कहा है कि नेहरू पंडित नहीं थे. आहूजा ने इसके पीछे देश के पहले प्रधानमंत्री के खान-पान का तर्क दिया. उन्होंने कहा कि नेहरू पंडित नहीं थे, क्योंकि वह गाय और सुअर का मांस खाते थे. शुक्रवार को दिए गए इस बयान में ज्ञानदेव आहूजा ने कहा, ‘जवाहरलाल नेहरू पंडित नहीं थे. वह गाय और सुअर का मांस खाते थे. सुअर मुसलमानों के लिए नापाक है और गाय हमारे लिए पवित्र है. वे पंडित नहीं थे. कांग्रेस द्वारा उन्हें पंडित जवाहरलाल नेहरू कहकर ब्राह्मणों को जोड़ा गया.’ ज्ञानदेव आहूजा ने कहा कि जो व्यक्ति गाय तथा सुअर का मांस खाता हो वह पंडित नहीं हो सकता तथा नेहरू के नाम में पंडित कांग्रेस ने जोड़ दिया.

भाजपा विधायक ने यह बातें राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी प्रमुख सचिन पायलट के बयान के बाद कहीं. पायलट ने कहा था कि राहुल गांधी अपनी दादी इंदिरा गांधी के साथ मंदिर जाया करते थे. जिसपर पलटवार करते हुए आहूजा ने कहा, ‘राहुल गांधी कभी इंदिरा गांधी के साथ मंदिर नहीं गए.  यदि मेरा दावा गलत है तो मैं अपना पद छोड़ दूंगा या सचिन पायलट को अपना पद छोड़ना पड़ेगा.’ उन्होंने राहुल की प्रस्तावित मंदिर यात्रा पर सवाल उठाते हुए पूछा, ‘पायलट, गहलोत या गुलाम नबी आजाद को यह बताना चाहिए कि राहुल का यज्ञोपवीत संस्कार कब हुआ. जनेऊ यज्ञोपवीत संस्कार होने के बाद ही धारण किया जाता है.’  

Share This Post

Leave a Reply