अभी तो सरकार भी नहीं बनी और वार कर दिया भारत के महान धार्मिक संगठन पर.. आक्रोशित हुआ सनातन समाज

पूरा देश जानता है कि कांग्रेस पार्टी ने सत्ता में रहते हुए हमेशा से हिन्दुओं के खिलाफ दमनकारी नीति अपनाई है, चाहे वह हिन्दुओं को आतंकी बोलना हो, हिंदुत्व की पहिचान भगवा को आतंक से जोड़ना हो, अयोध्या श्रीराम जन्मभूमि मामले में बाबरी मस्जिद की पैरोकारी करना हो या फिर श्रीरामसेतु को काल्पनिक बताना हो. लेकिन अब कांग्रेस पार्टी केंद्र सहित ज्यादातर राज्यों से सत्ता से बाहर है तो कांग्रेस पार्टी की तरफ से एक बार फिर से वार हुआ है हिन्दुओं के एक बड़े धार्मिक समूह अखिल विश्व गायत्री परिवार के प्रमुख डॉ. प्रणव पंड्या पर.

आपको बता दें कि कांग्रेस की तरफ से गायत्री परिवार के प्रमुख डॉ. प्रणब पंड्या के खिलाफ उनकी राहुल गांधी को लेकर की गई टप्पणी के विरोध में हरिद्वार नगर कोतवाली में शिकायत दर्ज करवाई है. तहरीर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कहा है कि डा. पंड्या की ओर से राहुल गांधी के प्रति की गई टिप्पणी बेहद अपमानजनक है. कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष तरुण नैय्यर ने कहा कि पंड्या ने अभद्र टिप्पणी कर उत्तेजना फैलाने का काम काम किया है, लिहाजा उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कानून कार्रवाई की जानी चाहिए. इसके अलावा कांग्रेस पार्टी ने डॉ. प्रणव पंड्या के बयान को ध्रुवीकरण वाला बताया है तथा कहा ही कि उनका बयान राजनीती से प्रेरित है व राहुल गांधी का अपमान करने वाला है, लिहाजा उनके खिलाफ कार्यवाही की जाये. तहरीर देने वालों में सुमित तिवारी, प्रदीप आहूजा, सुमित भाटिया, अतीश वर्मा, महावीर रोहेला, डा. समीर सिंह, रामदास जैन समेत दर्जनों कार्यकर्ता शामिल हैं.

मालूम हो कि 27 जून को आचार्य सभा की बैठक के बाद पत्रकारों से वार्ता में डा. पंड्या ने कहा था कि उन्हें राहुल गांधी की शक्ल और कांग्रेस की नीतियां पसंद नहीं हैं. पिछले दिनों भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात के बाद केंद्र सरकार की नमामि गंगे योजना पर सवाल उठाने वाले शांतिकुंज के प्रमुख डा. प्रणव पंड्या ने इस बार कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी पर बयान दिया था. उसने पूछा गया कि अगर अमित शाह की तरह ही कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी शांतिकुंज में उनसे मिलने आएंगे तो उनका क्या स्टैंड रहेगा. इस पर पंड्या ने कहा कि राहुल गांधी जब चाहे अन्य लोगों की तरह मिलने आ सकते हैं. शांतिकुंज में काफी लंबी लाइन लगती है। वे अगर आते हैं तो उन्हें अमित शाह की तरह का विशेष अधिमान (स्पेशल ट्रीटमेंट) नहीं दिया जाएगा. पंड्या ने कहा कि राहुल गांधी की शक्ल और कांग्रेस की नीतियां उन्हें अच्छी नहीं लगती. कांग्रेस को डॉ. प्रणव पंडया का बयान ध्रुवीकरण वाला लगता है तथा उनके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई जाती है लेकिन जब इस्लामिक मौलाना तथा ईसाई बिशप या पादरी मोदी सरकार व भाजपा के खिलाफ फतवा जारी करते हैं तो वह अभिव्यक्ति की आजादी होती है तथा उस समय कांग्रेस मुस्कुरा रही होती है.

Share This Post

Leave a Reply