Breaking News:

राहुल गांधी को किसानों के मुद्दे पर ऐसी चुनौती आज तक किसी ने नहीं दी.. आप भी जानिए इस अद्भुत चुनौती को..

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सिर्फ किसानों की बात क्र सकते हैं लेकिन किसान को समझ नहीं सकते. राहुल गांधी अन्नदाता किसान के नाम पर राजनीति कर रहे हैं जबकि उन्हें किसानों के बारे में कुछ भी जानकारी नहीं हैं. अगर कांग्रेस अध्यक्ष गेंहूं, ज्वार, धान के पौधों को पहचान लें तो वह खुद राहुल गांधी का उनके कार्यालय जाकर उनका स्वागत करेंगे, सम्मान करेंगे. राहुल गांधी को गेंहूं, ज्वार, धान के पौधे में फर्क तक नहीं है. ये कहना है भारतीय जनता पार्टी के सांसद तथा किसान मोर्चा के अध्यक्ष श्री वीरेंद्र सिंह मस्त का.

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के स्टेट गेस्ट हाउस में आयोजित प्रेसवार्ता में भाजपा सांसद व मोर्चा के अध्यक्ष मस्त ने कहा कि अब देश में राजनीति खेत खलिहान से होकर ही गुजरेगी. उन्होंने कहा कि जो लोग किसान या खेती के बारे में हर जगह पर आंदोलन की बातें करते हैं उनको खेती-किसानी का ककहरा तक नहीं पता है. यह लोग सिर्फ किताबों में खेती करते हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जगह-जगह की किसान, खेती तथा मजदूर की बातें करते रहते हैं जबकि उन्हें किसानों की रत्ती भर भी जानकारी नहीं है लेकिन राजनीति के किसानों का उपयोग करने की कोशिश करते हैं. उन्होंने कहा कि राहुल गांधी तीन पौधों को भी नहीं पहचान सकते. यदि राहुल गांधी ज्वार, धान व गेहूं का पौधा पहचान लें तो वह उनका बड़ा सम्मान करेंगे और उनके लिए सम्मान समारोह आयोजित करेंगे, उनके कार्यालय जाकर उनका सम्मान करेंगे.

मोदी सरकार पर बात करते हुए वीरेंद्र सिंह मस्त ने कहा कि आजादी के बाद पहली बार मोदी सरकार ने देश के बजट का 52 फीसदी किसानों की योजनाओं में दिया है. गन्ना किसानों के लिए जो काम किया. उसके लिए किसानों ने प्रधानमंत्री का स्वागत किया. केन्द्र सरकार ने प्रधानमंत्री सिंचाई योजना, मेड पर पेड योजना, गौशाला योजना, आर्गेनिक खेती सहित अन्य योजनाएं लागू की है इससे 2022 तक किसानों की आय दोगुना करने का लक्ष्य रखा गया है जो जरूर पूरा होगा.

Share This Post