सत्ता मिलते ही सामने आया कांग्रेस का अहंकार से भरा चेहरा… महामहिम राज्यपाल को बोला “कुत्ता”

सत्ता का नशा क्या होता है इसका जवाब शायद कांग्रेस पार्टी से अधिक अच्छे से कोई नहीं दे सकता है. हमेशा से संवैधानिक मूल्यों के सम्मान की बात करने वाली, संवैधानिक पद की गरिमा के सम्मान की बात करने वाली कांग्रेस पार्टी हकीकत में क्या है व् उसकी क्या सोच है, इसका परिचय एक बार फिर से कांग्रेस ने दे दिया है. कर्नाटक में येदियुरप्पा के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार के गिरने के बाद कांग्रेस ने कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला को “कुत्ता” शब्द से नवाजा है.

ये वही कांग्रेस पार्टी है जिसने एक समय गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को “मौत का सौदागर” कहा था. ये वही कांग्रेस पार्टी है जिसने भारतीय सेना के प्रमुख जनरल विपिन रावत को सड़क छाप गुंडा कहा था. ये वही कांग्रेस पार्टी है जिसने प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी जी को नीच कहा था. ये वही कांग्रेस पार्टी है जिसने सर्वोच्च न्यायालय के चीफ जस्टिस पर सवाल खड़े किये. अब एक बार फिर कांग्रेस ने राज्यपाल को गाली दी है.

अभी तो कर्नाटक में कांग्रेस की सरकार बनी भी नहीं है. सबसे बड़ी बात कि कर्नाटक में कांग्रेस जेडीएस की पिछलग्गू होकर सरकार बना रही है उसके बाद भी कांग्रेस पार्टी के अंदर इतना बड़ा अहंकार है कि वह राज्यपाल को गाली दे बैठी तथा सारी मान मर्यादा भूल गयी. कर्नाटक में भाजपा सरकार के गिरने के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता संजय निरूपम ने मीडिया के सामने आकर राज्यपाल वजुभाई वाला पर हमला बोला तथा उन्हें कुत्ता कहा. संजय निरूपम ने राज्यपाल वजुभाई वाला को बीजेपी का वफादार बताते हुए कहा कि अब हिन्दुस्तान में कुत्तों का नामा “वजुभाई वाला” रखा जाना चाहिए. निश्चित रूप से राज्यपाल जैसे गरिमामय पद को गाली देना तथा राज्यपाल को कुत्ता कहकर एक बार फिर कांग्रेस ने अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मारी है. देश की जनता कांग्रेस को पूरे देश से खदेड़ चुकी है लेकिन कांग्रेस का अहंकार है कि कम होने का नाम नहीं ले रहा है.. 

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW