एक कांग्रेसी ने माना आजाद कश्मीर तो दूसरे कांग्रेसी ने सेना को बताया नागरिकों का हत्यारा… किस दिशा में है कांग्रेस?


देश की जनता ने कांग्रेस पार्टी को उखाड़ कर क्या फेंका है. पूरी की पूरी पार्टी बौखला गई लगती है. भारतीय जनता पार्टी तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विरोध में कांग्रेस पार्टी का कोई नेता अब देश की सेना पर सवाल खड़े कर रहा है तो कोई कश्मीर की आजादी की बात कर रहा है. एक तरफ जहाँ कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता सैफुद्दीन सोज ने कहा है कि वह कश्मीर की आजादी आजादी छाते हैं तो वहीं गुलाम नबी आजाद ने भारतीय सेना को नागरिकों का हत्यारा करार है.

देश के लिए अपने प्राणों को न्योछाबर करने वाले जाबांज जवानों पर कहर बंकर गिरा है कांग्रेस पार्टी के नेता गुलाम नबी आजाद का वो बयान जिसमें वो कह रहे हैं कि सेना आतंकियों के खिलाफ कम तथा नागरिकों के खिलाफ ज्यादा कड़ी कार्यवाही करती है. भारत सरकार ने एलान किया है कि आतंकियों के खिलाफ सेना का ऑपरेशन तेज होगा तथा चुन चुन कर आतंकियों का खात्मा किया जाएगा. केंद्र सरकार के इस एलान के बाद वरिष्ठ कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि केंद्र सरकार की दमनकारी नीति का सबसे अधिक नुकसान आम जनता को भुगतना पड़ता है. उन्होंने कहा कि कश्मीर में चार आतंकियों को मारने के लिए 20 आम नागरिकों को मार दिया जाता है.

कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने मीडिया से बात करते हुए कहा है कि सेना की कार्रवाई नागरिकों के खिलाफ ज्यादा और आतंकियों के खिलाफ कम है। उन्होंने सीधे पीएम मोदी को घेरते हुए कहा कि वो बातचीत की बजाए कार्रवाई पर यकीन करते हैं, इसी के चलते घाटी में माहौल सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं. वो यहां तक बोलने से नहीं चूके कि पीएम मोदी गोली की भाषा ही जानते हैं और सेना कि कार्यवाही से नागरिक ज्यादा मारे जा रहे हैं. 


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...