नहीं रहे भारतरत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई.. एम्स में ली अपने जीवन की आख़िरी सांस.. दुःख के सागर में डूबा हिंदुस्तान

भारतीय जनता पार्टी के संस्थापक तथा हिंदुस्तान के पूर्व प्रधानमन्त्री भारतरत्न माननीय अटल बिहारी वाजपेई जी का देहांत हो गया है. एम्स अस्पताल प्रशासन ने नये मेडिकल बुलेटिन में कहा है कि भारतरत्न पूर्व प्रधानमन्त्री अटल बिहारी वाजपेई नहीं रहे. बता दें कि सूत्रों के हवाले से अटल जी के देहांत की खबर पहले ही आ चुकी थी लेकिन अब इसका आधिकारिक एलान भी हो गया है. अटल जी के देहांत की खबर आते ही पूरे देश में शोक की लहर दौड़ गयी है तथा अपने नेता को खोने के बाद देश आंसुओं के सागर में डूब गया है. अटल जी लगभग पिछले दो महीने से एम्स में भर्ती थे तथा आज उन्होंने अपने जीवन की आख़िरी सांस ली. कल शाम को प्रधानमन्त्री श्री मोदी जी अटल जी को देखने एम्स पहुंचे थे तथा जानकारी मिली थी कि अटल जी की हालात काफी नाजुक है, इसके बाद से ही देशभर में उथल-पुथल मच गयी थी.

आज सुबह से ही अटल जी के लिए पूरा देश भगवान से प्रार्थना कर रहा था, पूजा-पाठ, हवन किये जा रहे थे लेकिन हर जंग जीतने वाले कालजयी अटल जी मौत से आख़िरी जंग हार गये. न अस्पताल की दवा काम आयी, न समर्थकों की दुआ काम आयी तथा अटल जी पूरे देश को रुलाकर देवलोक गमन कर गये. अटल बिहारी वाजपेई हिंदुस्तान के एकमात्र ऐसे नेता रहे हैं जिनसे हर वर्ग अपना जुड़ाव महसूस करता है. अटल जी की सबसे बड़ी खासियत थी कि विकट परिस्थिति में भी हौसला नहीं खोते थे तथा दोगुने हौसले से पुनः आगे बढ़ते थे. जब भाजपा लोकसभा चुनाव में 2 सीटें जीती थी, उस समय उन्होंने कहा था कि “सुरजन निकलेगा, अँधेरा छटेगा, कमल खिलेगा”.. उनका ये वाक्य भाजपा कार्यकर्ताओं में ऐसी एनर्जी पैदा किया कि आज भाजपा पूर्ण बहुमत के साथ केंद्र में तथा 20 से अधिक राज्यों में भाजपा सत्ता में है.

निश्चित रूप से अटल जी का जाना देश के लिए एक वो छति है, वो खालीपन है जो कभी नहीं भरा जा सकेगा. अटल बिहारी बाजपेई चाहे संसद में बोले हों, चाहे लालकिले से बोले हों या संयुक्त राष्ट्र में उनका हिन्दी में दिया गया भाषण हो, हर बार अटल जी ने अपनी वाक्पटुता से न सिर्फ देश में नई ऊर्जा का संचार किया बल्कि आमजनमानस के मन को भी मोह लिया. आज जब एम्स से कहा गया कि अटल जी नहीं रहे तो ऐसा लगा जैसे एक युग का अंत हो गया है. अटल जी के निधन पर मीडिया से लेकर सोशल मीडिया, मशहूर हस्तियों से लेकर आम जनता तक आपने नेता को श्रद्धांजलि दे रही है तथा रो रही है. सुदर्शन परिवार आदरणीय अटल जी के देवलोक गमन पर उन्हें अश्रुपूरित श्रद्धांजलि अर्पित करता है, उन्हें नमन वंदन करता है. अटल जैसा न कोई हुआ न होगा. “अलविदा अटल”

Share This Post

Leave a Reply