Breaking News:

“क्यों देर हो रही दिल्ली की निर्भया के दोषियों को फांसी देने में”. राष्ट्र की इस आवाज को नोटिस के रूप में तिहाड़ जेल से पूछा है दिल्ली महिला आयोग ने

ये वो सवाल है जो देश नारी का सम्मान करने वाले हर व्यक्ति की जुबान पर है . दिल्ली को दहला देने वाले उस नृशंस बलात्कार में आज भी न सिर्फ निर्भया के माता पिता और देशवासियों को उन दरिंदो की फांसी का इंतजार है अपितु निर्भया की आत्मा तक को भी उसी पल की प्रतीक्षा होगी . समय के गर्त में शायद दिल्ली का ये एक ऐसा घाव है जो न भरा और न ही भरेगा .. उसके चलते ही अब दिल्ली महिला आयोग ने निर्भया केस के दोषियों की फांसी लंबित होने के मामले में तिहाड़ जेल को नोटिस भेजा है. कुल मिला कर इस नोटिस को राष्ट्र की आवाज कहा जाय तो किसी भी हालत में गलत नहीं होगा ..

ध्यान देने योग्य है कि दिल्ली महिला आयोग ने ‘निर्भया’ के बलात्कार और ह्त्या के दरिन्दे अपराधियों की फांसी में देरी होने के मामले में तिहाड़ जेल के अधिकारियों को नोटिस भेजा है| 2012 में चलती बस में ‘निर्भया’ का बर्बर बलात्कार और हत्या हुई थी| इस मामले ने पूरे देश को झगझोर के रख दिया था| इस मामले में उच्चतम न्यायालय ने 4 अभियुक्तों को दोषी ठहराया था और 05.05.2017 को 4 लोगों को फांसी की सज़ा सुनाई थी| इस मामले में दोषियों ने उच्चतम न्यायलय में पुनर्विचार याचिका दाखिल की थी जिसे 09.07.2018 को उच्चतम न्यायलय ने ख़ारिज कर दिया था|

दोषियों की पुनर्विचार याचिका को ख़ारिज हुए 2 महीने हो गए हैं मगर अभी तक दोषियों को फांसी नहीं हुई है| इस विषय में दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल ने तिहाड़ जेल के डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल को नोटिस जारी किया है और उनसे इसकी वजह पूछी है| उनसे यह सूचना देने को कहा गया है कि क्या दोषियों को फांसी देने के लिए जेल अधिकारियों ने कोई आदेश पारित किया है या नहीं, अगर नहीं तो उसके कारणों की सूचना देने को कहा गया है| जेल अधिकारीयों से 15.09.2018 तक जवाब देने को कहा गया है|

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल ने कहा, “निर्भया के बलात्कार और हत्या को 6 साल के लगभग हो गए हैं| इस घटना ने पूरे देश को झगझोर के रख दिया था| पूरे देश के लोगों के सड़कों पर आने के बावजूद बलात्कार के मामले तब से बढ़े ही हैं| हमारे देश की राजधानी दिल्ली, आज विश्व में ‘रेप कैपिटल’ के नाम से बदनाम है| 11 महीने की छोटी बच्चियों के साथ भी दिल्ली में बलात्कार हो रहे हैं| बढ़ते अपराधों की मुख्य वजह यह है कि इस व्यवस्था में इनको रोकने के लिए कड़े उपाय नहीं हैं| अपराधियों के मन में क़ानून का कोई खौफ नज़र नहीं आता| इसलिए यह बहुत जरूरी है कि इन अपराधियों के मन में डर पैदा करने के लिए निर्भया के कातिलों को जल्द से जल्द फांसी पर चढ़ाया जाए| निर्भया और उसके माता पिता को न्याय मिलना चाहिए|”

Share This Post