जब अँधेरे में थी सारी दुनिया तब सत्य की खोज कर रहा था भारत – दलाई लामा . हिन्दू बौद्ध फिर आ रहे साथ

तिब्बत के धर्मगुरु दलाई लामा ने शुक्रवार को कहा कि, युवा पीढ़ी को आगे बढ़ने के लिए देश के प्राचीन ज्ञान पर ध्यान देना चाहिए तथा इस बारे में और अधिक सीखना चाहिए। वह यहां सोमैया विद्यालय में छात्रों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा, ”आप युवा पीढ़ी हैं, आप भारत का भविष्य हैं। भारत के प्राचीन ज्ञान पर और अधिक ध्यान दीजिए। बाहरी चीजें मसलन आधुनिक विज्ञान, आधुनिक शिक्षा बहुत अच्छे, बहुत उपयोगी है। परंतु जहां तक भीतरी दुनिया की बात है तो मेरा खयाल है कि उसके सामने आधुनिक शिक्षा, आधुनिक ज्ञान अभी भी बहुत ही शुरुआती चरणों में है !

उन्होंने कहा, ” भारत का भविष्य बहुत योगदान दे सकता है, खासकर आंतरिक दुनिया के ज्ञान के प्रचार प्रसार में और उसके साथ ही आंतरिक शांति के संबंध में। दलाई लामा ने कहा कि, उनका जीवन संघर्षों से भरा रहा है और उन्हें यह महसूस हुआ कि, कठिनाईयों से पार पाने का एकमात्र रास्ता मानसिक तौर पर मजबूत होना है। मानसिक शांति बहुत महत्वपूर्ण है, शारीरिक स्वास्थ्य के लिहाज से भी।
सच को लेकर देश का ज्ञान समृद्ध है और उसका दर्शन भी बाकी के विश्व से बिलकुल अलग है। दलाई लामा ने कहा, ”आप इस महान देश की युवा पीढ़ी हैं। मैंने देश के साथ महान विशेषण इसलिए जोड़ा क्योंकि यह एक लोकतांत्रिक देश और अर्थव्यवस्था है। जब बाकी की पूरी दुनिया अब भी अंधेरे में है, अज्ञानी बनी रही, तब लगभग ३,००० वर्षों से यह देश वास्तविकता को जानने और सच के गहरे मायनों को समझने की कोशिश करता रहा !”
Share This Post

Leave a Reply