Breaking News:

औरंगाबाद में लाखों मुसलमानों सम्मेलन था. अचानक वहाँ पहुँचीं शिवसेना, और फिर जो हुआ उसे न हिंदुओं ने सोचा था और न ही मुसलमानों ने

कभी दुनिया ने शिवसेना सुप्रीमो बाला साहब ठाकरे जी के उस समय के बयान को सुना था जब अमरनाथ की यात्रा पर खतरे के बादल मंडरा रहे थे ..तब बाला साहब ठाकरे जी ने मुंबई से एक बयान दिया जिसके बाद अमरनाथ यात्रा अपने आप शुरू हो गयी थी ..लेकिन अब जो हो रहा उसकी कल्पना कम से कम आम लोगों के लिए समझ से परे है ..

एक बेहद हैरान कर देने वाले अप्रत्याशित घटनाक्रम में शिवसेना का बदला रूप तब दिखा जब शिवसेना मुस्लिमों के कार्यक्रम में पहुची तो लेकिन किसी और रूप में .. ज्ञात हो कि औरंगाबाद में तीन दिवसीय तब्लीगी इज़्तिमा शुरू हो गई है। लाखों की संख्या में दुनिया और देश भर से मुसलमानों के पहुंचने का सिलसिला औरंगाबाद में जारी है.. कहा जा रहा है कि यह इज्तिमा दुनिया की बड़ी इज्तिमा में गिनी जायेगी। ये वही औरंगाबाद है जहां का नाम शिवसेना कभी बदलने के लिए संघर्ष किया करती थी लेकिन इस बार हुआ कुछ और ही .. 

इस इज्तिमा में शिवसेना ने सबको चौंका दिया है। देश की केंद्र सरकार और प्रदेश की राज्य सरकार में भागीदारी निभा रही इस सियासी पार्टी जो की मुम्बई और महाराष्ट्र में सबसे बड़े भगवा प्रतीक के रूप में जानी जाती है, ने सड़कों पर होर्डिंग लगाकर स्वागत किया है। सिर्फ़ इतना ही नहीं, इस इज्तिमा के लिए आने वाली सभी गाड़ियों का टोल फ्री करवाया है। होर्डिंग में शिवसेना ने लिखा है कि दुआओं में याद की गुजारिश है।
शिवसेना के इस कदम का इस्लामिक जगत में दिल खोल कर स्वागत हो रहा है ..उद्धव ठाकरे जी के निर्देशन में इस राह को मुस्लिमों ने जमकर सराहा है ..इस तरह के कदम से शिवसेना की हर तरफ तारीफ हो रही है। जानने वाले इसे मुसलमानों को लेकर बदलाव कह रहे हैं। मालूम हो कि शिवसेना कट्टर हिन्दुत्व छवि के लिए जानी जाती है।

Share This Post